अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महंगाई का नया रिकार्ड

सरकार के सभी प्रयासों के बावजूद महंगाई की रफ्तार बढ़ती ही जा रही है। फल, सब्जियों, मसालों, दाल, तिलहन, खाद्य तेल, गेहूं, दूध और कपड़ा आदि की कीमतों में बढ़ोतरी से 31 मई को समाप्त हुए सप्ताह में मुद्रास्फीति की दर 0.51 प्रतिशत और बढ़कर पिछले सात वर्ष के उच्चतम स्तर 8.75 प्रतिशत पर पहुंच गई। पिछले तीन सप्ताह से आठ प्रतिशत से ऊपर चल रही महंगाई की दर आलोच्य अवधि में दस फरवरी 2001 के 8.77 प्रतिशत के बाद की सर्वाधिक है।ड्ढr ड्ढr पिछले सप्ताह महंगाई की दर 8.24 प्रतिशत थी। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली सप्रंग सरकार के कार्यकाल में महंगाई का यह नया शिखर है। सपं्रग सरकार के कार्यकाल में इससे पहले महंगाई का उच्चतम स्तर 28 अगस्त 2004 को 8.33 प्रतिशत था। इस बीच वाम दलों ने केन्द्र सरकार पर हमला और तेज कर दिया है। उनका कहना है कि महंगाई रोकने के लिए सरकार का रवैया काफी ढीला-ढ़ाला है और उसने बाजार की ताकतों के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है। दूसरी ओर रिजर्व बैंक ने महंगाई की दर को काबू करने के अपने नवीनतम प्रयासों में इसी सप्ताह रेपो दर में 0.25 प्रतिशत की वृद्धि कर इसे आठ प्रतिशत किया था। 31 मई को समाप्त हुए सप्ताह में महंगाई की दर को बढ़ाने में मुख्य योगदान दूध, गेहूं, फल, सब्जियों की कीमत में एक प्रतिशत, मसालों में करीब दो प्रतिशत, तिलहनों में चार प्रतिशत, खाद्य तेलों में 1.6 प्रतिशत, शराब में साढ़े नौ प्रतिशत, कपड़ा के चार प्रतिशत और सूती धागे में नौ प्रतिशत की वृद्धि का रहा। अर्थशास्त्रियों का कहना है कि महंगाई की वर्तमान दर पर अभी ईंधन की कीमतों में बढ़ोतरी का असर पड़ना शेष है।ड्ढr ड्ढr इसे देखते हुए यह लगभग तय है कि सात जून को समाप्त हुए सप्ताह में महंगाई की दर नौ प्रतिशत से ऊपर निकल जाएगी। क्रिसिल के मुख्य अर्थशास्त्री डीके जोशी ने महंगाई को रोकने के लिए रिजर्व बैंक के रेपो दर में बढ़ोतरी को न्यायोचित ठहराते हुए कहा कि ब्याज दरों में और वृद्धि की संभावना है। आईसीआईसीआई सिक्युरटीज के अर्थशास्त्री ए प्रसन्ना ने महंगाई की दर को आश्चर्यजनक बताते हुए कहा कि ईंधन के दामों में वृद्धि का असर पड़ना अभी शेष है। उनका कहना है कि इस आधार पर महंगाई की दर आगामी सप्ताह 10 प्रतिशत को पार कर सकती है। सरकार का कहना है कि महंगाई को काबू करने के लिए जो कदम उठाए गए हैं इसका पूरा असर पड़ने पर आने वाले महीनों में इसके नीचे आने की संभावना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: महंगाई का नया रिकार्ड