अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चुनाव में भागलपुर दंगा प्रमुख मुद्दा होगा : जदयू

जदयू ने कहा है कि भागलपुर दंगा अगले लोकसभा चुनाव में उसका प्रमुख मुद्दा होगा और इसके जरिए वह लालू प्रसाद की हकीकत लोगों के सामने लाएगी। पार्टी अल्पसंख्यकों के लिए लालू प्रसाद द्वारा किए गए दिखावटी प्रयासों व कार्यो की पोल खोलने के लिए पुस्तिका भी प्रकाशित करगी। पार्टी ने कहा कि भागलपुर दंगापीड़ितों को बचाने वाला व्यक्ित कभी अल्पसंख्यक समाज का हितैषी नहीं हो सकता।ड्ढr ड्ढr पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता व सांसद शिवानंद तिवारी ने शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा कि भागलपुर दंगापीड़ितों को 1े सिख दंगापीड़ितों की तर्ज पर मुआवजा दिलवाने में लालू प्रसाद या उनकी पार्टी की कोई भूमिका नहीं है। यही नहीं उन्हें या उनकी पार्टी को इस फैसले के स्वागत का भी कोई नैतिक या राजनीतिक अधिकार नहीं है। लालू प्रसाद ने तो भागलपुर दंगापीड़ितों के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा गठित एम.एम. सिंह आयोग का विरोध तक किया था और अब उसी आयोग की अनुशंसा पर मुआवजा का स्वागत कर रहे हैं। इससे बड़ी शर्म की बात और क्या हो सकती है?ड्ढr ड्ढr श्री तिवारी ने कहा कि लालू प्रसाद धर्मनिरपेक्षता पर इस तरह बोलते हैं जिससे साम्प्रदायिक ताकतें मजबूत हों। गुजरात विधानसभा चुनाव में उनके भाषण पर सबसे अधिक ताली नरन्द्र मोदी ने बजाई और श्री मोदी ने लालू प्रसाद को उनका वोट बढ़ाने के लिए धन्यवाद भी दिया। उन्होंने दंगा के मुख्य अभियुक्त कामेश्वर यादव को न केवल संरक्षण दिया बल्कि उसे धर्मनिरपेक्ष घोषित करने में पूरी ताकत लगा दी। पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता अनिल पाठक ने दावा किया कि अल्पसंख्यकों की नाराजगी इस कदर है कि लालू प्रसाद इस बार बिहार के किसी लोकसभा सीट से चुनाव नहीं जीत पाएंगे। संवाददाता सम्मेलन में विधान पार्षद संजय कुमार, डॉ. नवीन कुमार आर्य व जावेद महमूद भी मौजूद थे।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चुनाव में भागलपुर दंगा प्रमुख मुद्दा होगा : जदयू