DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब इस रिश्ते को क्या नाम दें

मौजूदा राजनीतिक रिश्तों पर अगर कोई सीरियल बने, तो उसका नाम हो सकता है, एक्स्ट्रा मेरिटल उर्फ एक्स्ट्रा पॉलिटिकल। हिंदीनिष्ठ नाम हो सकता है, एक रिश्ता अवैध सा। बिहार में लालू यादव के पुराने सहयोगी रामकृपाल यादव बरसों-बरस जिन पार्टियों, जिन नेताओं को गरियाते रहे, अब उन्ही में से एक को ज्वॉइन करेंगे। या तो पहले गलत थे, या अब गलत होंगे। मेरा दोस्त-मेरा दुश्मन टाइप कुछ फिल्म जैसा होगा।

लेफ्ट-जयाललिता जी की पार्टी का गठबंधन टूट गया। उफ्फ यह गठबंधन कभी था भी क्या? मुश्किल सवाल है। तेलंगाना वाले चंद्रशेखर को कांग्रेस अपना साथी मान कर चल रही थी, पर वह भी लगभग रोज यही कहते हैं- तुम मेरे अच्छे दोस्त हो, इससे ज्यादा कुछ नहीं कह सकता। अरे भई दोस्त हो, तो दिल खोलकर मिलो। दूसरों के लिए भी तो दरवाजे खुले रखने हैं। विक्की तुम अच्छे हो, पर यह टोनी इत्ती अच्छी गिफ्ट लेकर आता है। गिफ्ट इतनी अच्छी है कि मना कैसे कर दूं। तुम अपनी गिफ्ट का लेवल बढ़ाओ न!

हाय, कैसी बच्चों वाली बात है यह। (बच्चे इस पर आपत्ति कर सकते हैं, बच्चे लालची तो होते हैं, बेईमान नहीं।) अब इस रिश्ते को क्या नाम दें, एक्स्ट्रा-पॉलिटिकल रिश्ते। हां विक्की, देखो हम पॉलिटिकल लिव-इन में रह  सकते हैं, पर तुम मुझे पूरे तौर पर अपना नहीं घोषित कर सकते। यही बात मैंने विक्की से भी कह दी है, बंटी से भी, सन्नी से भी।

हरियाणा में सत्तारूढ़ दल के एक विधायक प्रतिद्वंद्वी पार्टी को ज्वॉइन करने के लिए तैयार थे। प्रतिद्वंद्वी पार्टी ईमान को लेकर कुछ संवेदनशील-सी हो रखी है, तो विधायक से कहा कि दूसरी पार्टी ज्वॉइन कर लो, उसके साथ बाद में सेटिंग-डेटिंग होगी, तब जमा लेंगे मामला। कुछ इस टाइप का मामला है कि प्रेमिका  से साफ तौर पर रिश्ता नहीं रखना, पर उससे कहना कि पड़ोस के मकान में आ जा, वहीं से देखा-देखी होती रहेगी। क्या है यह, एक्स्ट्रा-पॉलिटिकल रिश्ते। बोरिंग राजनीतिक कवरेज में जान डालने के लिए एक टीवी चैनल पॉलिटिकल कवरेज को पॉलिटिकल लिव-इन के नाम से पेश करेगा।
लव आऊट, लिव इन का जमाना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अब इस रिश्ते को क्या नाम दें