DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अदालत ने बलात्कार का दोषी ठहराया, सहमति का कोई मतलब नहीं

दिल्ली की एक अदालत ने एक युवक को अपनी 14 वर्षीय प्रेमिका से बलात्कार करने का दोषी ठहराया है। अदालत ने कहा कि यद्यपि दोनों ने आपसी रजामंदी से शारीरिक संबंध बनाए लेकिन वह अपराध का दोषी है क्योंकि लड़की नाबालिग है। vcx
    
अदालत ने सुंदर पासवान को हालांकि लड़की के अपहरण के आरोप से बरी कर दिया। अदालत ने कहा, उस वक्त लड़की सिर्फ 14 साल की थी और इसलिए आरोपी के साथ यौन संबंध बनाने के लिए उसकी सहमति का कोई मतलब नहीं है।

अदालत ने कहा कि न तो उसने लड़की को फुसलाया था और न ही उसे उसके साथ जाने के लिए बाध्य किया गया था और वह अपनी मर्जी से उसके साथ गई क्योंकि वे एक-दूसरे से प्रेम करते थे। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश वीरेंद्र भटट ने कहा, यह साफ है कि लड़की को न तो आरोपी :सुरेंद्र: ने अपने साथ चलने के लिए लुभाया था और न ही अपने साथ चलने के लिए मजबूर किया था और न ही अपने साथ चलने के लिए धमकी दी थी। लड़की सुरेंद्र से प्रेम करती थी और स्वेच्छा से 18 दिसंबर 2000 को उसके साथ गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अदालत ने बलात्कार का दोषी ठहराया, सहमति का मतलब नहीं