DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड की राजनीति शिफ्ट हुई दिल्ली

रांची। ब्यूरो प्रमुख। अगले कुछ दिनों में झारखंड की राजनीति में बड़े बदलाव के संकेत मिल रहे हैं। प्रदेश की राजनीति एक तरह से दिल्ली शिफ्ट कर गई है। झारखंड भाजपा के लगभग बड़े नेता और टिकटों के दावेदार सोमवार को दिल्ली चले गए।

मंगलवार को उम्मीदवारी को अंतिम रूप दिया जाना है। कांग्रेस की राजनीति भी इस समय दिल्ली में केंद्रित हो गई है। सुबोधकांत सहाय के टिकट पर पूरी प्रदेश कांग्रेस की नजर है।

सहाय के समर्थक भी बड़ी संख्या में दिल्ली में जमे हैं। इधर, झामुमो अपने उम्मीदवारों की घोषणा की तैयारियों को अंतिम रूप देने में जुटा है। बागी से हर दल परेशानझामुमो के बागी विधायक हेमलाल मुर्मू दिल्ली चले गए हैं। चर्चा है कि मंगलवार को वह भाजपा का दामन थाम सकते हैं।

कांग्रेस के बागी विधायक चंद्रशेखर दूबे तृणमूल में शामिल होने के बाद मंगलवार से प्रदेश में सक्रिय होने जा रहे हैं। सुबोधकांत सहाय को लेकर अलग चर्चा है। आजसू इस मामले पर राजनीति लाभ उठाने की फिराक में है।

अगर सहाय का टिकट कट गया, तो राज्य में एक बड़ा राजनीतिक उलटफेर हो सकता है। उधर पूर्व सांसद नागमणि एक बार फिर झारखंड की राजनीति में सक्रिय हो गए हैं। वह भाजपा से चतरा के लिए टिकट मांग रहे हैं।

झामुमो और आजसू पर टिकी नजरझामुमो और आजसू ने अब तक उम्मीदवारों की घोषणा नहीं की है। टिकट बंटवारे के पहले हेमलाल मुर्मू झामुमो को झटका देकर जा चुके हैं। सविता महतो ने जमशेदपुर से चुनाव नहीं लड़ने की बात कह कर हेमंत सोरेन की परेशानी बढ़ा दी है।

इधर, तिलेश्वर साहू की हत्या की वजह से आजसू के चुनावी अभियान को ब्रेक लगा है। अगले दो-तीन दिनों में आजसू भी उम्मीदवारों की घोषणा की प्रक्रिया शुरू करनेवाली है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:झारखंड की राजनीति शिफ्ट हुई दिल्ली