DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

होली पर छापेमारी अभियान होगा तेज

फरीदाबाद कार्यालय संवाददाता।  फूड सेफ्टी एक्ट एड़ािनेस्ट्रेशन विभाग ने होली को लेकर छापेमारी अभियान तेज करने का निर्णय लिया है। इसके लिए डिप्टी सिविल सर्जन और फूड सेफ्टी अधिकारी के नेतृत्व में पांच सदस्यीय विशेष टीमें बनाई गई हैं, जो मिलावटी खाद्य पदार्थो की बिक्री पर रोक लगाएगा। विभाग को आशंका है कि इस दौरान यूपी, राजस्थान और दिल्ली से खोआ और मिठाइयां भारी मात्रा में आती है। होली के दौरान मिलावटी मिठाइयां और गुझिया बिकने की संभावना अधिक होती है।

इसे ध्यान में रखते हुए अगले सप्ताह से विशेष अभियान चलाने का निर्णय लिया गया है। इस दौरान स्वास्थ्य विभाग टीम की नजर बल्लभगढ़, ओल्ड फरीदाबाद, डबुआ, जवाहर कॉलोनी और अन्य कॉलोनियों में मिठाई, खोया, मावा और घी आदि को लेकर अभियान चलाया जाएगा। मालूम हो कि इस दौरान दूसरे राज्य से गुझिया के कारीगर शहर में आकर शहर के छोटी कॉलोनियों में अस्थायी ठिकाना बना लेते हैं। ऐसे हलवाई मिलावटी खाद्य पदार्थ का प्रयोग करते है। ऐसे मिलावटी मिठाईयों के बिक्री पर रोक लगाने के लिए डिप्टी सिविल सर्जन डॉ. पीसी आर्या, फूड सेफ्टी अधिकारी डीके शर्मा, सहायक दीनदयाल, संजीत सहित पांच सदस्यीय टीम बनाई गई हैं, जो शहर के विभिन्न क्षेत्रों में छापेमारी अभियान चलाएगे।

इस दौरान स्थानीय पुलिस व प्रशासन का भी सहयोग लिया जाएगा। अभियान के दौरान टीम को विशेष अधिकार दिया गया है। जरूरत पड़ने पर टीम के अधिकारी मौके पर ही मिठाइयों को फेंक सकते है। सिविल सर्जन डॉ. रामेंद्र सिंह : मिलावटी खाद्य पदार्थ पर प्रतबिंध लगाने के लिए यह निर्णय लिया गया है। इस दौरान बाहर के लोग शहर में आकर दुकान सजा लेते है। अभियान के दौरान ऐसे मिठाई और गुझिया बनाने वाली कारीगरों पर टीम की विशेष नजर होगी।

गोरख धंधे के अड्डे है यहां - बल्लभगढ़,ओल्ड फरीदाबाद नहर पार इलाके की कॉलोनी -नंगला इंक्लेव, डबुआ कॉलोनी, दयालबाग, पर्वतीय कॉलोनी, जवाहर कॉलोनी और पल्ला सराय क्या मिलाते है खाद्य पदार्थ में देशी घी : पशुओं की चर्बी, आलू और शकरकंदी का पेस्टदूध में : सिंथेटिक पाउडर, शैंपू, सोडा, अरारोट, पानी, रिफाइंड ऑयल, यूरिया, शुगरमावा : शकरकंदी व आलू और रिफाइंड ऑयलस्वास्थ्य विभाग की कार्रवाईवर्ष 2010 में 78 सैंपल दूध, घी और खाद्य प्रदार्थ के लिए। इनमें से 42 फेल पाए गएवर्ष 2011 में 80 सैंपल दूध, घी और खाद्य प्रदार्थ के लिए।

इनमें से 20 फेल पाए गएवर्ष 2012 (21 अक्टूबर के बाद से) 50 सैंपल दूध, घी और खाद्य पदार्थ लिए। इसमें से पांच फेल वर्ष 2013 में 62 सैंपल लिए गए है। इसमें से करीब 12 नमूने फेल पाए गए है ं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:होली पर छापेमारी अभियान होगा तेज