DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भोजपुरी में गीतांजलि की संगीतमयी प्रस्तुति

जमशेदपुर। बिष्टूपुर स्थित तुलसी भवन में राजेंद्र राज द्वारा कविगुरु टैगोर की कालजयी रचना ‘गीतांजलि’ की भोजपुरी में संगीतमयी प्रस्तुति ने रविवार की शाम को सुरमयी बना दिया। जमशेदपुर भोजपुरी साहित्य परिषद के तत्वावधान में आयोजित सांस्कृतिक संध्या में हार्मोनियम पर मंजू बोस, तबले पर महाबीर बोस और पारकेसन पर रघु ने संगत की। वरिष्ठ कवि व परिषद के सांस्कृतिक सचवि राजेंद्र राज द्वारा ‘गीतांजलि’ का भोजपुरी अनुवाद की हृदयस्पर्शी और आनंददायक संगीतमयी प्रस्तुति का हर कोई कायल हुआ। वशििष्ट अतिथि डॉ. बच्चान पाठक ‘सलिल’ ने कहा कि संस्कृति और संस्कार के क्षेत्र में राजेंद्र राज की सुझभरी दृष्टि काबिले तारीफ है।

स्वागत डॉ. नर्मदेश्वर पांडेय, संचालन संजय पाठक और धन्यवाद ज्ञापन यमुना तिवारी व्यथित ने किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भोजपुरी में गीतांजलि की संगीतमयी प्रस्तुति