अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वाहन निर्माता शुल्क वृद्धि के खिलाफ

भारतीय आटोमोबाइल निर्माता संस्था (सियाम) ने 1500 सीसी से अधिक क्षमता वाली बड़ी कारों पर 15 से 20 हजार रुपए प्रति कार अतिरिक्त उत्पाद शुल्क लगाने का विरोध करते हुए इसे तुरंत वापस लेने की मांग की है। उल्लेखनीय है कि सरकार ने शुक्रवार को बड़ी कारों, एमयूवी और एसयूवी वाहनों पर केंद्रीय उत्पाद शुल्क बढ़ा दिया था। सियाम ने कहा कि अर्थव्यवस्था की वर्तमान स्थिति और आसमान छूती महंगाई से आटोमोबाइल इंडस्ट्रीज पहले ही दबाव में है और ऐसे में सरकार द्वारा वाहनों की कीमतों में बढ़ोत्तरी किया जाना कतई उचित नहीं है। बड़ी कारों पर अतिरिक्त उत्पाद शुल्क लगाए जाने का कड़ा विरोध और वृद्धि को अनावश्यक बताते हुए सियाम ने सरकार से इसे तुरंत वापस लिये जाने की मांग की है। सरकार ने कच्चे तेल की ऊंची कीमतों को देखते हुए ईंधन खपत कम करने के उद्देश्य से दामों में बढ़ोत्तरी की है। सरकार के इस फैसले से 1500 सीसी से अधिक क्षमता वाली बड़ी कारें, बहु उपयोगी वाहन और स्पोर्ट्स यूटिलिटी मंहगी हो जाएंगी। सरकार के इस फैसले से देश की अग्रणी कार कंपनी मारुति उद्योग की एसएक्स-4, हौंडा सिविक और स्कोदा आक्िटवा जैसे मॉडलों के दामों में वृद्धि हो जाएगी। पंद्रह सौ सीसी से 1सीसी तक की क्षमता वाली कारों पर 15000 रुपए अतिरिक्त उत्पाद शुल्क के रूप में वसूले जाएंगे, जबकि 2000 सीसी और इससे ऊपर की क्षमता पर यह शुल्क बीस हजार रुपए होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: वाहन निर्माता शुल्क वृद्धि के खिलाफ