DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हर किसी का मन हल्का नहीं कर पाता संगीत

हर किसी का मन हल्का नहीं कर पाता संगीत

यह जरूरी नहीं कि संगीत से हर किसी का मन हल्का हो जाए, यह भी जरूरी नहीं कि गीत सुनकर आप अच्छा महसूस करें और आपको लगे कि सबकुछ ठीक होने वाला है।

हो सकता है कि गीत-संगीत का आपके दिल और दिमाग पर जरा भी प्रभाव न पड़ता हो। समाज में ऐसे लोग भी हैं, जो मन की शांति गीत-संगीत से इतर चीजों में ढूंढ़ते हैं।

इस नई मानवीय स्थिति को 'स्पेसिफिक म्यूजिकल एन्हेडोनिया' का नाम दिया गया है। दूसरे शब्दों में कहे तो संगीत से आनंद महसूस न करना। इसके दो कारण हो सकते हैं। एक तो यह कि सुनने वाले को या तो संगीत समझ न आ रहा हो, या फिर वह व्यक्ति संगीत के प्रति संवेदनशील नहीं है।

स्पेन की युनिवर्सिटी ऑफ बर्सिलोना के जोसफ मार्को-पेल्लारेस ने कहा, ''ऐसे लोगों की पहचान संगीत के तंत्रिका आधार को समझने की दृष्टि से बेहद महत्वपूर्ण हो सकती है कि कैसे संगीत का कोई खास सुर आपकी भावनाओं में बदल जाता है।''

शोधकर्ताओं ने कुछ 10-10 व्यक्तियों के तीन समूह के साथ एक प्रयोग किया, जिसमें लोगों को एक के बाद एक अलग-अलग संगीत सुनाया गया और संगीत से मिलने वाली सुखद अनुभूति को दर्ज करने को कहा गया।

शोधकर्ताओं ने पाया कि कुछ लोगों को संगीत में समझने और ग्रहण करने के बावजूद उसमें आनंद न आना सामान्य बात है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हर किसी का मन हल्का नहीं कर पाता संगीत