DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सिंघानिया बंधुओं के यहां पुलिस का छापा

रांची। संवाददाता। आयकर विभाग की सर्वे टीम पर हमला करने के आरोपी पटाखा कारोबारी कमल सिंघानिया, वमिल सिंघानिया और जय सिंघानिया पुलिस की गिरफ्त के बाहर हैं। ऐसे में कोतवाली पुलिस की टीम ने सिंघानिया बंधुओं के कांके रोड स्थित सत्या इंक्लेव के तीन फ्लैटों में छापेमारी की। पुलिस की टीम ने जब छापा मारा, तब घर में सिर्फ कमल सिंघानिया की पत्नी श्वेता सिंघानिया और पिता मौजूद थे। केस के अनुसंधानकर्ता हरगोविंद दास हैं।

पत्नी और मैनेजर बनाए जा सकते हैं आरोपीः कमल सिंघानिया की पत्नी श्वेता सिंघानिया और मैनेजर बादल साव के खिलाफ भी कोतवाली पुलिस एफआइआर दर्ज कर सकती है। कोतवाली डीएसपी दीपक अंबष्ट ने बताया कि एक महीने पहले श्वेता और बादल को नोटिस दिया गया था।

तब दोनों ने कहा था कि दस दिनों के भीतर कमल,वमिल और जय सिंघानिया सरेंडर कर देंगे। दोनों ने तब नोटिस रिसीव भी किया था। कोतवाली डीएसपी ने बताया कि दोनों पुलिस की जांच में मदद भी नहीं कर रहे हैं। वहीं सबूत को मिटाने का भी प्रयास किया जा रहा है। ऐसे में दोनों को धारा 201 के तहत आरोपी बनाया जा सकता है।

क्या है मामलाः 24 अक्टूबर 2013 को आयकर विभाग के सहायक आयुक्त विद्यारत्न किशोर सर्वे के लिए अपर बाजार स्थित सिंघानिया बंधुओं के गोदाम में गए थे। तब सिंघानिया बंधुओं और उनके कर्मचारियों ने आयकर टीम पर हमला किया था। घटना के बाद से ही सिंघानिया बंधु फरार हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सिंघानिया बंधुओं के यहां पुलिस का छापा