DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब अबला नहीं रहीं महिलाएं : साहू

खरसावां संवाददाता। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर खरसावां के सामुदायिक भवन में शनिवार को झारखंड राज्य आजीविका प्रोत्साहन सोसाइटी और चिलकू सामुदायिक भवन में महिला समूह की ओर से कार्यक्रम का आयोजन किया गया। मौके पर खरसावां उप प्रमुख गौरी साहू ने कहा कि महिलाएं अब अबला नहीं हैं। वे पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर आगे बढ़ रही हैं। उन्होंने कहा कि स्वयं सहायता समूहों से जुड़कर महिलाएं अपने परिवार का भरण-पोषण भी कर रही हैं।

खरसावां पंचायत की मुखिया मंजू बोदरा ने कहा कि नारियां वक्त के साथ सशक्त बन चुकी हैं और समाज के विकास को लेकर जागरूकता लाने में जुटी हैं। दूसरी ओर, चिलकू पंचायत की मुखिया सविता मुंडारी ने कहा कि समय के साथ देश में परविर्तन आया और महिलाओं ने अपनी पहचान स्थापित की। इसके बावजूद महिलाएं अब भी अपने अधिकार को लेकर संघर्षरत हैं।

इस दौरान महिलाओं में जागरूकता लाने, शिक्षित बनाने, महिला सशक्तिकरण की दिशा में कार्य करने, अधिकारों और कर्तव्यों को समझने, महिलाओं के विकास में सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ने, मतदान के महत्व को समझते हुए मतदान करने, पेयजल स्वच्छता और साफ-सफाई की जानकारी दी गयी।

खरसावां और चिलकू में आयोजित कार्यक्रम में महिला स्वयं सहायता समूहों की सैकड़ो महिलाएं शामिल हुईं। इनमें मुख्य रूप से सुनीता महतो, चिनमई गांगुली, शकुंतला महतो, शीला महतो, राजू कुमार, प्रीति आइंद, प्रभासिनी नायक, कविता पांडेय, मणि पति, सुजाता नायक, ममता देवी, मंजू कुंभकार, संगीता महतो, रीकी नायक सहित अन्य महिलाएं शामिल थीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अब अबला नहीं रहीं महिलाएं : साहू