DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पारा शिक्षक संघ की बैठक में सरकार की आलोचना

बिन्दापाथर प्रतिनिधि। गेड़िया शैक्षिणक अंचल के निश्चिंतपुर सीआरसी में पारा शिक्षकों की बैठक शनिवार को हुई। मौके पर सीआरसी अध्यक्ष नैनी प्रसाद गोराई ने कहा कि सरकार महज 1400 सौ रुपए बढ़ोतरी मानदेय की स्वीकृति देकर पारा शिक्षकों के हाथों में झुनझुना थमा दी है। जिसे पारा शिक्षक कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे।

कहा कि सरकारी शिक्षकों की तरह चुनाव, जनगणना आदि कार्यो में भागीदारी पारा शिक्षक निभाते हैं। प्राथिमक शिक्षा पारा शिक्षकों के भरोसे से टिकी है। लेकिन सरकार उनके हितों के प्रति गंभीर नहीं है।

कहा कि अपना मानदेय लेने के लिए भी संघर्ष करना पड़ता है। सरकार कहती है कि 20 प्रतिशत मानदेय वृद्घि का प्रावधान है, तो फिर बिहार में एकमुश्त तीन हजार मानदेय क्यों दिया जा रहा है। क्या बिहार के लिए संविधान में अलग कानून है।

कहा कि टेट का दोबारा परिणाम घोषित करने में भी सरकार नाकाम रही है। होली के पहले दो महीने का मानदेय भुगतान नहीं करने पर पारा शिक्षक आंदोलन करने को बाध्य होंगे। अध्यक्षता सीआरसी अध्यक्ष नैनी प्रसाद गोराई ने की।

मौके पर गोवर्धन मंडल, आलोक भूंई, सुब्रोत सरकार, उमापद मंडल, रासमिण हेम्ब्रम, उज्जवल मंडल आदि उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पारा शिक्षक संघ की बैठक में सरकार की आलोचना