DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नेपाल के तस्करों से भी जुड़े हैं वाडेकर के तार

वरीय संवाददाता, पटना कोलकाता। पुलिस के हत्थे चढ़ा अमर अनिल वाडेकर के तार नेपाल के तस्करों से जुड़े हैं। वह सोने की तस्करी के धंधे में काफी समय से लिप्त था। महीने में वह कई बार नेपाल जाया था। वहां से तस्करी कर सोने के बिस्कुट लाकर राजधानी के सर्राफा बाजार में सप्लाई करता था।

तस्करी के एक किलो सोना बेचने पर उसे डेढ़ से दो लाख रुपए का फायदा होता था। नेपाल में एक किलो सोना उसे 28 लाख रुपए में मिल जाता था। वाडेकर उसे साढ़े 29 से लेकर 30 लाख रुपए तक में बेचता था। राजधानी के कई बड़े व प्रतिष्ठित सर्राफा दुकानों में वह सोने की सप्लाई करता था।

वह जेके हॉलमार्क कंपनी से भी जुड़ा हुआ था। कंपनी की आड़ में वह तस्करी करता था। फरार जयचंद से भी हैं रिश्ते सोने की तस्करी के धंधे में शामिल ओंकार ज्वेलर्स के मालिक जयचंद पवार से भी वाडेकर के करीबी रिश्ते हैं।

जयचंद के कर्मचारी सूरज अशोक सिंधल को मधुबनी पुलिस ने अरेर थाना इलाके से 10 फरवरी को पकड़ा था। उसके पास से पुलिस ने तस्करी के एक किलो सोना बरामद किया था। बाद में मधुबनी पुलिस ने जयचंद के एसपी वर्मा रोड स्थित सरस्वती अपार्टमेंट के फ्लैट में छापेमारी की। इसकी भनक लगते ही वह फरार हो गया था।

पुलिस ने बाकरगंज स्थित ओंकार ज्वेलर्स में भी छापा मारा था। पुलिस ने दुकान को सील कर दिया था। दो दुकानों में हुई थी छापेमारी जेके हॉल मार्क कंपनी के चोरी के सोने बेचने के आरोप में वाडेकर के खिलाफ कोलकाता के पोस्टा थाने में मामला दर्ज किया गया था।

कोलकाता पुलिस ने वाडेकर को पुणे के शविाजी नगर स्थित घर से गिरफ्तार किया था । बाद में उसके निशानदेही पर कोलकाता पुलिस ने चार मार्च को राधजानी के श्री ज्वेलर्स एंड ब्रदर्स में छापेमारी की, तो वहां से एक किलो सोने के गहने बरामद हुए। उसी दिन पुलिस ने बाकरगंज स्थित वैभव ज्वेलर्स में भी छापेमारी कर साढ़े तीन लाख रुपए भी बरामद किए थे। दुकानदार सुनील कुमार सोनी को भी पुलिस गिरफ्तार कर कोलकाता ले गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नेपाल के तस्करों से भी जुड़े हैं वाडेकर के तार