DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कुपोषण से लड़ेगा उच्च गुणवत्ता वाला मक्का

पटना। राज्य में उत्पादित मक्के से कुपोषण को खत्म किया जाएगा। राज्य में उच्चगुणवत्ता वाले मक्के की खेती शुरू हो गई है। इसके लिए राज्य के 12 जिलों का चयन किया गया है। इन जिलों में न्यूट्री फिड योजना के तहत मक्के की खेती शुरू की गई है। इन क्षेत्रों में कुपोषण के सबसे अधिक मामले पाये गये हैं।

इन जिलों के पांच सौ किसानों का चयन कर एचक्यूपीएम (हाई क्वालिटी प्रोटीन मेज) यानी उच्च गुणवत्ता वाले मक्के के बीज की खेती गरमा महोत्सव में शुरू की गई है। कृषि विभाग की ओर से चयनित किसानों को प्रशिक्षित किया जा रहा है। साथ ही विशेष किसान पाठशाला भी लगाई जाएगी जिसमें कृषि वैज्ञानिक मक्के की खेती के गुर बताएंगे।

योजना के तहत सबसे पहले एचक्यूपीएम मक्के के बीज की खेती करवाईजा रही है। कृषि संचार के उपनिदेशक अशोक प्रसाद ने कहा कि मक्के के इस प्रजाति में उच्च गुणवत्ता वाला प्रोटीन पाया जाता है जो शरीर के विकास में काफी मददगार होता है।

इसमें कुपोषण से लड़ने क्षमता अधिक होता है। इसका उपयोग मिड डे मील में किया जाएगा। बच्चों को खिचड़ी के साथ मक्के के बने व्यंजन भी दिये जाएंगे। यहां शुरू हुई मक्के की खेती बक्सर, दरभंगा, जमुई, मधुबनी, बांका, मुजफ्फरपुर, गया, बेतिया, भागलपुर, कशिनगंज, कटिहार व पूर्णिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कुपोषण से लड़ेगा उच्च गुणवत्ता वाला मक्का