DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चाोर-चाबरदस्ती की तो आंदोलन करंगे किसान

लखनऊ और कानपुर के बीच औद्योगिक क्षेत्र लीडा के लिएोमीन अधिग्रहण की कार्यवाही शुरू होने से पहले ही इसका विरोध शुरू हो गया है। शनिवार को लखनऊ और उन्नाव के किसानों और ग्राम प्रधानों की बैठक में निर्णय लिया गया कि किसान किसी भी हालत में अपनी कीमतीोमीन माटी मोल नहीं बिकने देंगे। उन्होंने आंदोलन की चेतावनी दी है।ड्ढr बिरानपुर तिलवट, नटकुर, कुरौनी, बंथरा, बनी समेत कई गाँवों के किसानों और ग्राम प्रधानों की बैठक संतोष कुमार यादव वोगनायक सिंह चौहान की संयुक्त अध्यक्षता में हुई। इस बैठक में प्रशासन द्वारा प्रस्तावितोमीन की दर को एक सिर से ठुकरा दिया गया है। यहाँ कीोमीन अधिग्रहित करने के लिए एसडीएम की अध्यक्षता में एक समिति बनी थीोिसे किसानों की सहमति सेोमीन मूल्य तय करने थे। लेकिन समिति नेोो मूल्य किसानों को बताए, उससे किसानों में गुस्सा भड़क उठा है। श्री चौहान के मुताबिक प्रशासन ने एक हैक्टेयरोमीन की कीमत चार लाख रुपया ही बताई हैोबकि यहाँ केवल एक बीघा 30-30 लाख रुपए का बिक रहा है। श्री चौहान ने बताया कि किसानों ने तय किया है कि प्रशासन द्वारा निर्धारित दरों पर कतईोमीन नहीं दीोाएगी। उन्होंने कहा कि बसपा ने अश्वासन दिया था कि अगर उनकी सरकार आई तो लीड़ा क्षेत्र के किसानों को 32 लाख रुपए बीघा मूल्य दिलायाोाएगा। अगर प्रशासन ने प्रस्तावित दामोंोमीन लेने के लिएोोरोबरदस्ती की तो किसान आंदोलन की राह पकड़ लेंगे।ोरूरत पड़ी तो टिकैत से भी बात कीोाएगी और किसानों कोोमीन का उचित मूल्य दिलायाोाएगा।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चाोर-चाबरदस्ती की तो आंदोलन करंगे किसान