DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आरा में लाखों रुपये की नकली दवाएं बरामद

आरा। एक संवाददाता। औषधि नियंत्रण विभाग से जुड़ी राज्य स्तरीय टीम ने शनिवार को आरा शहर के नवादा थाना क्षेत्र के डीएम कोठी के नजदीक भगवान कॉलोनी में छापेमारी की। छापेमारी में लाखों रुपये मूल्य की नकली दवाएं बरामद की गयी। राज्य औषधि नियंत्रक हेमंत कुमार सिन्हा को गुप्त सूचना मिली थी कि आरा में विभिन्न कंपनियों की नकली दवाएं तैयार कर बाजार में आपूर्ति की जा रही है।

गुप्त सूचना के बाद छापेमारी के लिए पांच सदस्यीय एक राज्य स्तरीय टीम का गठन किया गया था। टीम ने भगवान कॉलोनी पहुंचकर उदय कुमार सिंह के द्वारा संचालित लॉज पर छापेमारी की। छापेमारी के दौरान भारी मात्रा में बिना लेबल के इंजेक्शन, दवाएं और बिना उपयोग में लाये गये रैपर बरामद किया गया। ड्रग इंस्पेक्टर डा.सच्चिदानंद प्रसाद ने बताया कि बरामद की गयी दवा की कीमत लगभग सात लाख रुपये है। इस मामले में लॉज संचालक उदय कुमार सिंह को गिरफ्तार किया गया।

गिरफ्तार लॉज संचालक ने स्वीकार किया कि पीरो के चतुर्भुज बरांव का रहने वाला रमेश कुमार उर्फ रामू उसके घर में किराये पर कमरा लेकर धंधे को संचालित करता था। इस सिलसिले में देर शाम एफआईआर दर्ज करायी गयी। कमरे से रमेश कुमार का पैन कार्ड, एकाउंट का पास बुक और अन्य कागजात भी बरामद किया गया। बरामद कागजातों से नकली दवाओं के सप्लाई किये जाने की भी जानकारी मिली है । जिन दु सप्लाई की जाती थी,उनके नामों को टीम ने गोपनीय रखा है।

टीम ने छानबीन में फाइजर कंपनी का डोलोनेक्स इंजेक्शन और अल्केम कंपनी की टैक्सीम दवा बरामद की है जो नकली है। अल्केम कंपनी के प्रतिनिधि खुर्रम मल्लिक ने पटना से आयी टीम को जानकारी दी कि दवा उनकी कंपनी की नहीं है। बरामद दवा नकली है। टीम मामले की तहकीकातकानों पर दवाओं की कर रही है। किन कंपनियों की थी दवाफाइजर, अल्केमकौन सी दवाडोलोनेक्स इंजेक्शन, टैक्सिम क्या हुआ बरामद बिना उपयोग का रैपर, इंजेक्शन,

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आरा में लाखों रुपये की नकली दवाएं बरामद