DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांग्रेस के दिग्गजों की सूची जारी

कांग्रेस ने तमाम सर्वे और पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी की नसीहतों के बावजूद लोकसभा चुनाव के लिए अपने पुराने दिग्गजों पर ही भरोसा किया है। पार्टी ने सत्रह राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों के लिए 194 उम्मीदवारों की पहली सूची शनिवार को जारी की।

इन्होंने चौंकाया: इस सूची में नंदन नीलेकणि, मोहम्मद कैफ, रवि किशन और अमिता मोदी के अलावा और कोई चौंकाने वाला नाम नहीं है।

सोनिया भी मैदान में: पार्टी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के इस बार चुनाव न लड़ने की अटकलों को खारिज किया है। वह रायबेरली से ही लड़ेंगी। उपाध्यक्ष राहुल गांधी अमेठी से उम्मीदवार होंगे। जबकि पड़ोस की सीट सुल्तानपुर से डॉ. संजय सिंह की जगह उनकी पत्नी अमिता सिंह को टिकट दिया गया है। संजय सिंह को पार्टी पहले ही असम से राज्यसभा में ला चुकी है। अमिता मोदी के अलावा इस सूची में यूपी से चौंकाने वाला दूसरा नाम क्रिकेटर मोहम्मद कैफ व भोजपुरी फिल्मों के अमिताभ बच्चन कहे जाने वाले कलाकार रवि किशन का है। कैफ फूलपुर से तथा रवि किशन जौनपुर से कांग्रेस के उम्मीदवार होंगे। अब तक देश भर के लिए आधार कार्ड की व्यवस्था कर रहे नंदन नीलेकणि को कर्नाटक में बेंगलुरु दक्षिण क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया गया है। यह संभवत: पहली बार होगा कि नीलेकणि उम्मीदवार घोषित होने के बाद पार्टी की सदस्यता लेंगे। नीलेकणि रविवार को कांग्रेस की सदस्यता लेंगे।


..लेकिन भाजपा सूरमाओं के नाम तय करने में पीछे
नई दिल्ली, विशेष संवाददाता

कांग्रेस के दिग्गजों ने चुनाव मैदान संभाल लिए हैं, लेकिन भाजपा के बड़े नेताओं को अभी एक सप्ताह और इंतजार करना पड़ेगा। बड़े नेताओं की अंदरूनी खींचतान के कारण यह देरी हो रही है। अब भी उसके पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की सीट तय नहीं है। मोदी के चलते ही वाराणसी में मुरली मनोहर जोशी का मामला भी उलझ गया है। लखनऊ से लालजी टंडन लड़ेंगे या राजनाथ सिंह यह भी फैसला नहीं हो सका है। सीट-नाम तय होने के बाद भी सुषमा स्वराज को इंतजार करना पड़ रहा है।

भाजपा के भीतर के हालातों में एक बार फिर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को हस्तक्षेप करना पड़ रहा है। भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह की संघ प्रमुख मोहन भागवत से मुलाकात के बाद ही पार्टी कुछ कड़े फैसले लेगी। सूत्रों के अनुसार बेंगलुरु से लौटने के बाद 10 मार्च को राजनाथ सिंह बड़े नेताओं से विचार-विमर्श कर सकते हैं। इसके बाद 13 मार्च को मोदी, राजनाथ सिंह, सुषमा, आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी के नामों पर फैसला हो सकता है। चुनाव समिति के सचिव अनंत कुमार के मुताबिक राज्यवार उम्मीदवार तय होने से बड़े नेताओं के नाम नहीं आ पाए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कांग्रेस के दिग्गजों की सूची जारी