DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महिला दिवस पर भी इंसाफ को भटकती रही ‘महिलाएं’

मुजफ्फरनगर, हमारे संवाददाता। शहर में एक तरफ जहां समाजसेवी संस्थाओं और स्कूल कॉलेजों में महिला िदवस कार्यक्रम मनाया जा रहा था, वहीं कई पीड़ित महिलाएं ऐसी भी थी जो इंसाफ के लिए पुलिस के दरवाजे पर खड़ी थी।

अफसोस किसी महिला की समस्या हल हुई तो किसी को आश्वासन से ही काम चलाना पड़ा। कोई अपनी गायब हुई बेटी के लिए गुहार लगाने पहुंची थी तो कोई अपने बेटे को पुलिस से बचाने के लिए। किसी को मारपीटकर िनकाला गया तो कोई पित से परेशान थी। पेश है एक रिपोर्ट.. एसएसपी ऑिफस सुबह के दस से चार बजे तक चरथावल निवासी ममता ने एसपी सिटी श्रवण कुमार सिंह को बताया कि उसके मकान को कुछ दबंगों ने कब्जा लिया हैं।

उसने स्थानीय पुलिस से गुहार लगाई, लेकिन अब तक उसके मकान को कब्जामुक्त नहीं कराया गया। जबकि इस मकान का बैनामा भी ममता के नाम पर हैं। वहीं अलमासपुर निवासी एक महिला अपनी गायब हुई बेटी को बरामद करने के लिए पहुंची। उसने भावनपुर मेरठ के लोगों के खिलाफ अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया हुआ हैं। इसके अलावा अन्य कई महिलाएं भी इंसाफ के लिए एसएसपी ऑिफस पर पहुंची। थानों में पहुंची महिलाएंनगर कोतवाली में पहुंची ओमवती ने बताया कि उसके बेटे दीपक को पुलिस ने उठाया हुआ हैं।

वह दिनभर उसे छोड़ने की गुहार लगाती रही। िततावी निवासी कमलेश ने मारपीट की शिकायत िततावी थाने में दर्ज कराई। वहीं जानसठ में तीन, रामराज में दो, मीरापुर में एक, छपार में कोई नहीं, पुरकाजी में दो, चरथावल में दो, मंसूरपुर में तीन फुगाना में दो, भौराकलां में एक महिलाओं ने इंसाफ के लिए गुहार लगाई। ‘‘िजन महिलाओं को समस्या है, वह मेरे से आकर मिले। उनकी समस्या को तुरंत हल किया जाएगा’’ हिरनारायण सिंह, एसएसपी --------सर्वेद्र ं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महिला दिवस पर भी इंसाफ को भटकती रही ‘महिलाएं’