DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रामकृपाल यादव ने आरजेडी के सभी पदों से दिया इस्तीफा

रामकृपाल यादव ने आरजेडी के सभी पदों से दिया इस्तीफा

राजद प्रमुख लालू प्रसाद के करीबी रामकृपाल यादव ने पाटलीपुत्र लोकसभा सीट से टिकट न दिए जाने की वजह से आज राजद के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया, लेकिन कहा कि वह अभी भी पार्टी में हैं।
   
दो दिन पहले राजद ने प्रत्याशियों की घोषणा की थी, जिसमें पाटलीपुत्र लोकसभा सीट से लालू की पुत्री मीसा भारती को उम्मीदवार बनाया गया है। उसी समय रामकृपाल ने पार्टी प्रमुख की इस बात पर आपत्ति जताई थी कि उन्होंने (यादव ने) पाटलीपुत्र सीट से चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर नहीं की थी।
   
मीसा कल यादव को मनाने और समझाने के लिए उनके घर गईं और पांच घंटे तक वहां रही थीं। इस बारे में यादव ने कहा कि यह इमोशनल ब्लैकमेल की एक कोशिश थी। यादव फिलहाल राज्यसभा के सदस्य हैं और पटना से वह तीन बार लोकसभा के लिए चुने जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि वह अब भी पार्टी में हैं और उन्होंने राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा नहीं दिया है।
   
उन्होंने कहा कि सामाजिक न्याय के सिद्धांतों को बनाए रखने के लिए गठित की गई पार्टी की दिलचस्पी अब पारिवारिक न्याय में प्रतीत होती है।

पाटलीपुत्र लोकसभा सीट से टिकट न मिलने पर रामकृपाल यादव के नाराज होने की खबरों के बाद लालू प्रसाद की पुत्री मीसा भारती उनसे मिलने के लिए दिल्ली आईं थीं।
   
यादव ने संवाददाताओं को बताया पार्टी और उसके कार्यकर्ताओं के साथ मेरा गहरा जुड़ाव है। मुझे लगता है कि जिस तरह मीसा कल मेरे पास आईं, वह या तो इमोशनल अत्याचार है या मेरे जैसे सीधेसादे व्यक्ति के खिलाफ किया गया राजनीतिक स्टंट। उन्होंने कहा कि उन्होंने भरे दिल से इस्तीफा देने का निर्णय किया और उनके लिखित इस्तीफे में यह बात साफ होगी।
   
बहरहाल, वह किसी अन्य दल में शामिल होने या लोकसभा चुनाव लड़ने की संभावना के बारे में कुछ भी कहने से बचे। उन्होंने सिर्फ इतना कहा अन्य फैसले बाद में किए जाएंगे। 

यादव ने कहा कि उन्होंने बहुत पहले पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के समक्ष लोकसभा चुनाव लड़ने की अपनी इच्छा जताई थी फिर भी ऐसा फैसला किया गया। उन्होंने कहा मैं चाहता था कि लोकसभा चुनाव लड़ूं। यह पार्टी कार्यकर्ताओं और लोगों की मांग थी।

एक साल पहले मैंने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष को अपनी भावनाओं से अवगत करा दिया था। मैंने यहां तक कहा था कि अगर मैड़ा को प्रत्याशी बनाया जाता है तो मेरे लिए यह ठीक ही होगा । लेकिन फैसला किया गया। फिर भी मैंने पार्टी के खिलाफ एक शब्द भी नहीं कहा।
   
लोकसभा चुनाव से पहले लालू प्रसाद की पार्टी में असंतोष बिखरा हुआ है। पिछले माह राजद के 13 विधायकों ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया था लेकिन बाद में विधायक दल की बैठक में 9 विधायक शामिल हुए थे।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रामकृपाल यादव ने आरजेडी के सभी पदों से दिया इस्तीफा