DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

केंद्रीय कैबिनेट सचिव ने की चुनाव तैयारियों की समीक्षा

रांची। विशेष संवाददाता। केंद्रीय कैबिनेट सचिव ने झारखंड के अधिकारियों के साथ चुनाव के तैयारियों की समीक्षा की। सचवि ने राज्य के मुख्य सचवि, गृह सचिव, डीजीपी और विशेष शाखा के एडीजी से यह जानना चाहा कि शांतिपूर्ण चुनाव के लिए झारखंड को कितना बल चाहिए। शुक्रवार को वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए वह राज्य के अधिकारियों से बात कर रहे थे। उन्हें यह बताया गया कि झारखंड उग्रवादग्रस्त राज्य है। यहां के ग्रामीण इलाकों के अधिकांश बूथ अतसिंवदेनशील हैं।

अपराधियों के खिलाफ चलेगा बड़ा अभियानः उग्रवाद की स्थिति भी भयावह है हालांकि नक्सलियों के खिलाफ कई बड़े अभियान चलाए गए और पुलिस को सफलता भी मिली। झारखंड में विधि व्यवस्था ठीक है बड़े अपराध नहीं के बराबर हैं। अपराधियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

चुनाव को ध्यान में रखते हुए असमाजिक तत्वों के खिलाफ बड़ा अभियान चलेगा। उग्रवाद पर काबू के लिए पड़ोसी राज्यों से सहयोग मांग कर अभियान चलाया जाएगा। आत्मसमर्पण नीति में यह प्रावधान किया गया है कि योग्यताधारी वैसे नक्सली जो आत्मसमर्पण करेंगे उन्हें पुलिस में नौकरी देने पर विचार किया जाएगा।

पूर्व में भी आत्मसमर्पण करने वाली दो महिलाओं को नियम शिथिल कर पुलिस में बहाल किया गया है। यह भी बताया गया कि झारखंड में कितने पुलिसकर्मी तैनात हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:केंद्रीय कैबिनेट सचिव ने की चुनाव तैयारियों की समीक्षा