DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीबीआइ जेपीएससी की कॉपियों का पुनर्मू्ल्यांकन कराने को स्वतंत्र

रांची। मुख्य संवाददाता। जेपीएससी की प्रथम और द्वितीय सिविल सेवा परीक्षा की कॉपियों का पुनर्मूल्यांकन कराने के लिए सीबीआइ स्वतंत्र है। सीबीआइ अपने स्तर से कॉपियों की जांच करा सकती है। झारखंड हाइकोर्ट ने जेपीएससी की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह निर्देश दिया। कोर्ट ने सीबीआइ कोर्ट के उस आदेश को निरस्त कर दिया, जिसमें जेपीएससी को इन परीक्षाओं की कॉपियों का पुनर्मूल्यांकन करने का निर्देश दिया गया था।

सीबीआइ के आग्रह पर विशेष कोर्ट ने इन कॉपियों का पुनर्मूल्यांकन करने का निर्देश दिया था। इस आदेश को जेपीएससी ने अदालत में चुनौती दी थी। जेपीएससी की ओर से अदालत को बताया गया कि आयोग की नियमावली में कॉपियों के पुनर्मूल्यांकन का प्रावधान नहीं है। सिर्फ री टोटलिंग हो सकती है। जबकि सीबीआइ की ओर से कहा गया कि पुनर्मूल्यांकन कराना जरूरी है। जेपीएससी जांच में सहयोग नहीं कर रहा है। दोनों पक्षों को सुनने के बाद अदालत ने सीबीआइ कोर्ट के आदेश को निरस्त कर दिया।

कोर्ट ने कहा कि यदि सीबीआइ चाहे तो वह अपने स्तर से कॉपियों का पुनर्मूल्यांकन करा सकती है। कोर्ट ने जेपीएससी की को जांच में सहयोग करने का निर्देश देते हुए याचिका निष्पादित कर दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सीबीआइ जेपीएससी की कॉपियों का पुनर्मू्ल्यांकन कराने को स्वतंत्र