DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मधेपुरा में 20 लाख की अष्टधातु की मूर्तियां चोरी

शंकरपुर (मधेपुरा) ’ एक संवाददाता। शंकरपुर थाना क्षेत्र के कबियाही वार्ड 13 स्थित रामजानकी ठाकुरबाड़ी से गुरुवार की रात चोरों ने ताला तोड़कर अष्टधातु की 9 मूर्तियां चुरा ली। इन मूर्तियों का वजन लगभग 20 किग्रा बताया जा रहा है। इसके अलावा चोरों ने बेशकीमती पत्थरों से बने भगवान शालीग्राम की 6 मूर्तियां भी चुरा ली।

बताया जा रहा है कि बाजार में इन मूर्तियों का मूल्य लगभग 20 लाख रुपया आंका जा रहा है। चोरी की इस घटना से क्षेत्र के लोग हैरान हैं। घटना की जानकारी मिलने के बाद शुक्रवार की सुबह शंकरपुर थाने की पुलिस भी मामले का जायजा लेने घटना स्थल पर पहुंची। ठाकुरबाड़ी के महंत राधे दास के बयान पर थाने में अज्ञात चोरों पर केस दर्ज किया गया है।

थानाध्यक्ष एनडी निराला ने बताया कि ठाकुरबाड़ी की सेवायत को लेकर पूर्व से दो महंतो में विवाद भी चल रहा है। बावजूद अन्य पहलुओं पर भी जांच की जा रही है। महंत राधे दास द्वारा शक जताये जाने पर महंत सीता दास से भी पूछताछ की गई। मालूम हो कि जिले में सक्रिय मूर्ति चोर गिरोह की इस वर्ष चोरी की यह दूसरी बड़ी घटना है।

31 जनवरी की रात बिहारीगंज थाना क्षेत्र के बभनगामा पंचायत के वार्ड 3 स्थित राम जानकी ठाकुरबाड़ी से भी अष्टधातु की आधा दर्जन मूर्तियां चोरी की गई थी।

यह है मामला : महंत राधे दास का कहना है कि गुरुवार को रात पूजा के बाद लगभग 11 बजे वे अपने बिस्तर पर नारद पुराण पढ़ रहे थे। इसी दौरान कुछ अजीब सा महसूस होने पर टॉर्च की रोशनी में चारों तरफ देखने पर एक फाटक खुला दिखा। इसे बंद कर वे सोने चले गये। सुबह 4 बजे जब पूजा-अर्चना के लिए महंत ठाकुरबाड़ी पहुंचे, तो वहां रखी सभी मूर्तियां गायब थीं। महंत ने बताया कि चोरी गई मूर्तियां रामजानकी, लक्ष्मण, कृष्ण राधा, बलराम, हनुमान, गणेश, शालीग्राम, ज्योतिष शालीग्राम की थीं।

उन्होंने इनका वजन 20 किग्रा बताया। उन्होंने कहा कि इस ठाकुरबाड़ी में पूर्व में भी कुछ छोटी चोरी हुई थी। महंत की मानें ज्योतिष शालीग्राम की मूर्ति बेशकीमती पत्थर की थी। यह पत्थर संभवत: अयोध्या एवं जगन्नाथ पूरी के मंदिर में ही देखा गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मधेपुरा में 20 लाख की अष्टधातु की मूर्तियां चोरी