DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

150 कुली बन गए गैंगमैन

ुली बन गए गैंगमैन। अब लाल वर्दी के बदले गैंगमैन की वर्दी में नजर आएंगे। बोझा उठाने के बदले ट्रैकों की मरम्मत व देखभाल करंगे। महीने के महीने पगार मिलेगी। बाकी रलकर्मियों की तरह सारी सहूलियतें भीं। दादा-परदादा के जमाने से बोझ उठाते चले आ रहे हैं। अब तक किसी ने सुधि नहीं ली थी। मौजूदा रलमंत्री लालू प्रसाद ने लाल वर्दी पहन जीतोड़ मेहनत करने वाले कुलियों को रलकर्मी बनाने का फैसला लिया था। इसी क्रम में दानापुर मंडल के 150 कुलियों को रलवे के गैंगमैन पद पर बहाल कर लिया गया है।ड्ढr ड्ढr कुली से गैंगमैन बने ये रलकर्मी जल्द ही अपनी नयी वर्दी में दिखाई देंगे। पहले चरण में मंडल के 164 कुलियों का चयन मेडिकल जांच के लिए हुआ था, जिनमें 14 अनफिट हुए। मंडल के 1558 लाइसेंसी कुलियों में मात्र 150 को नियुक्ित पत्र मिलने के कारण उनमें रोष व्याप्त है। कुली संघ इसको लेकर पटना जंक्शन पर विरोध प्रदर्शन भी कर चुका है। हालांकि दानापुर के डीआरएम बीडी गर्ग ने बताया कि बहाली की प्रक्रिया अभी भी जारी है।ड्ढr ड्ढr जिन कुलियों को विभिन्न प्रमाण पत्र के अभाव में नियुक्ित पत्र नहीं दिया गया है, उनसे सभी कागजात लाने को कहा गया है। उन्होंने बताया कि जो लाइसेंसी कुली सभी आवश्यक प्रमाण पत्र लाएंगें, उन्हें रलवे में बहाल कर लिया जाएगा। बहरहाल गैंगमैन बने 150 कुलियों के परिवार में जश्न का माहौल है। ये रलमंत्री को धन्यवाद देते आधाते नहीं हैं। कुली से गैंगमैन बने बिनोद कुमार बताते हैं कि रलवे में नौकरी करने का उनका सपना पूरा हो गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 150 कुली बन गए गैंगमैन