DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महिलाओं को मिले भयमुक्त और सुरक्षित माहौल: प्रणब

महिलाओं को मिले भयमुक्त और सुरक्षित माहौल: प्रणब

राष्ट्रपति प्रणब मखर्जी ने शुक्रवार को कहा कि महिलाओं के प्रति नकारात्मक छवि को बदलने के लिए समाज को काम करना चाहिए और उन्हें सुरक्षित, भयमुक्त और अनुकूल माहौल प्रदान किया जाना चाहिए ताकि वे राष्ट्र निर्माण में योगदान कर सकें।

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की पूर्व संध्या पर अपने संदेश में राष्ट्रपति ने लोगों से महिलाओं की सुरक्षा और कल्याण के लिए अपने प्रयासों को दोगुणा करने का प्रण करने को कहा। प्रणब ने कहा कि मैं देश के सभी हिस्से की महिलाओं को शुभाकामना देता हूं और शुभेच्छा व्यक्त करता हूं। मैं अपने देश के निर्माण में अमूल्य योगदान करने के लिए उन्हें धन्यवाद देता हूं।

उन्होंने कहा कि सदियों से भारत में महिलाओं ने राजनीति, शैक्षणिक एवं आध्यात्मिक क्षेत्र में महानता को हासिल किया। प्राचीन भारत में उन्हें समान स्वतंत्रता और सहभागिता हासिल थी। प्रणब ने कहा कि लैंगिक समानता का सिद्धांत भारतीय संविधान में निहित है। न केवल संविधान महिलाओं को समानता प्रदान करता है बल्कि राज्यों को महिलाओं के पक्ष में सकारात्मक तरफदारी से संबंधित उपाय करने का अधिकार भी प्रदान करता है।

उन्होंने कहा कि महिलाओं के सशक्तिकरण को न केवल लैंगिक समानता के हमारे प्रयासों के तत्व के रूप में देखा जाना चाहिए बल्कि यह राष्ट्र निर्माण में पूर्ण सहभागिता को प्रोत्साहित करने के संदर्भ में महत्वपूर्ण कदम है। राष्ट्रपति ने कहा कि समाज के तौर पर हमें महिलाओं के बारे में नकारात्मक छवि को बदलने की दिशा में काम करना चाहिए।

महिलाओं को सुरक्षित, भयमुक्त एवं अनुकूल माहौल प्रदान किया जाना चाहिए ताकि उनकी प्रतिभा फलफूल सके और वे राष्ट्र निर्माण में पूर्ण हिस्सेदारी कर सकें। प्रणब ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर हमें महिलाओं के कल्याण और उनकी सुरक्षा के बारे में अपने प्रयासों को दोगुणा करने का प्रण लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह अवसर समाज के प्रत्येक व्यक्ति को महिलाओं के प्रति उच्च सम्मान की भावना को बढ़ावा दे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महिलाओं को मिले भयमुक्त और सुरक्षित माहौल: प्रणब