DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शाह को नामजद करने का दबाव नहीं: रंजीत सिन्हा

शाह को नामजद करने का दबाव नहीं: रंजीत सिन्हा

सीबीआई निदेशक रंजीत सिन्हा ने शुक्रवार को कहा कि इशरत जहां फर्जी मुठभेड़ मामले में गुजरात के पूर्व गृहमंत्री अमित शाह को आरोपित करने के लिए उन पर कोई दबाव नहीं है और जांच एजेंसी ने उस सबूत के आधार पर आरोपपत्र दाखिल किया, जो न्यायिक कसौटी पर खरा उतर सके।

सिन्हा ने एक कार्यक्रम में कहा कि इस बारे में हमेशा एक दृष्टिकोण रहा है। हमने भी सुना। हमें सबूत के आधार पर चलना है जो हम चल रहे हैं। आखिरकार मैं सबूत नहीं गढ़ सकता। हमें सबूत खोजना है और यह मूल्यांकन करना है कि यह आरोपपत्र दाखिल करने के लिए उपयुक्त है या नहीं।

उन्होंने कहा कि यह मुद्दा भी उठा कि वे लोग आतंकवादी हैं या नहीं। उन्होंने कहा कि असल बात यह है कि वे लोग मनुष्य थे और उनकी इस देश में हत्या हुई। हमें भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) के तहत कार्रवाई करनी होगी। आतंकवादी करार दिए गए किसी व्यक्ति के लिए कोई छूट नहीं है।

यह पूछे जाने पर कि मामले में शाह को आरोपी के तौर पर नामित करने के लिए क्या वह दबाव में हैं, उन्होंने जवाब दिया, इस मामले में किसी को आरोपित करने के लिए मेरे ऊपर कोई दबाव नहीं है।

सीबीआई को पिंजड़े में बंद तोता का तगमा मिलने पर सिन्हा ने हल्के फुल्के अंदाज में कहा कि इशरत जहां मामले के दौरान हमें गिद्ध कहा जाता रहा है, हमें पिंजड़े में बंद तोता और बेलगाम घोड़ा कहा जाता रहा है। मुझे लगता है कि हमने अपनी पहचान प्राणी जगत में खो दी है।

यह पूछे जाने पर कि 2जी मामले में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी द्वारा द्रमुक नेता करुणानिधि की मदद किए जाने के सबूत पर एजेंसी ने क्या कार्रवाई की है, सिन्हा ने कहा कि एजेंसी 2 जी मामले में पहले ही आरोपपत्र दाखिल कर चुकी है और मामला अदालत में विचाराधीन है।

उन्होंने कहा कि रिकॉर्ड की हुई जिस बातचीत का आपने जिक्र किया है हमने भी उस बारे में सुना है और इसकी प्रति नहीं मिली है तथा हमें नहीं मालूम कि वे प्रासंगिक हैं भी या नहीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शाह को नामजद करने का दबाव नहीं: रंजीत सिन्हा