DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिन अनुमति अयोजन, प्रशासन को पता नहीं

ग्रेटर नोएडा। वरिष्ठ संवाददाता। बुधवार को लोकसभा चुनाव का कार्यक्रम जारी हुआ। शाम को डीएम ने आचार संहिता की घोषणा की। धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू की। बताया कि अब कोई जनसभा प्रशासन और पुलिस की अनुमति के बिना नहीं होगी। लेकिन गुरुवार को पहले ही दिन प्रदेश सरकार में दर्जा प्राप्त मंत्री और समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी नरेंद्र सिंह भाटी की जनसभा दनकौर में आयोजित की गई।

इसके लिए प्रशासन और पुलिस से अनुमति नहीं ली गई है। दनकौर कस्बे के बाहर स्पोर्ट्स सिटी रोड पर गुरुवार की दोपहर दर्जा प्राप्त मंत्री और सपा के गौतमबुद्ध नगर सीट से उम्मीदवार नरेंद्र भाटी के लिए जनसभा का आयोजन किया गया। कार्यक्रम सुबह 11 बजे से 4 बजे तक चला। कार्यक्रम स्थल के समीप ही डिग्री कॉलेज और एक पब्लिक स्कूल है। इसके बावजूद रागिनी और धूम धड़ाके का संगीत लाउडस्पीकर पर गूंजता रहा। इससे छात्रों को खासी असुविधा हुई।

रागिनी गायक नीरज भाटी और पूनम त्यागी की पार्टी ने हजारों लोगों का मनोरंजन किया। इस मौके पर नरेंद्र भाटी ने कहा कि ‘सपा सरकार हमेशा से ही किसानों ओर मजदूर लोगों की हितैषी रही है। सपा को छोड़कर सब दलों ने किसानों का शोषण किया है। ’ मंत्री ने अपनी पार्टी के पक्ष में इस बार के लोकसभा चुनाव में वोट देने की अपील इलाके के लोगों से की। उपस्थित लोगों से समर्थन देने के लिए हाथ उठवाए गए।

मंत्री करीब एक घंटे तक मंच पर रहे। आयोजकों ने एक बड़ी माला मंत्री को पहनाकर नारे लगाए। इस बारे में आयोजकों से पूछा गया कि क्या जिला प्रशासन से अनुमति ली गई थी तो किसी ने कोई जवाब नहीं दिया। कुछ ऐसा ही हाल पुलिस और प्रशासनिक अफसरों का रहा। मंत्री की सुरक्षा के लिए पुलिस तो पहुंची लेकिन अफसरों ने कार्यक्रम की जानकारी होने से इंकार कर दिया। सार्वजनिक कार्यक्रमों के आयोजन की अनुमति एसडीएम देते हैं। इस कार्यक्रम के लिए उनसे अनुमति ली गई होगी।

थाने में या मुझे कार्यक्रम की अनुमति के संबंध में कोई जानकारी नहीं है। - अरविंद कुमार, डीएसपी, ग्रेटर नोएडाकार्यक्रम होने के बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं है। इस संबंध में किसी प्रकार की अनुमति लेने के लिए कोई आवेदन भी मेरे संज्ञान में नहीं आया है। - बच्चाू सिंह, एसडीएम सदर।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिन अनुमति अयोजन, प्रशासन को पता नहीं