DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाहरी उम्मीदवारों के सवाल पर भाजपा में मचा है बवाल

रांची। अजय कुमार। भाजपा में बाहरी उम्मीदवारों को टिकट देने का विरोध शुरू हो गया है। गुरुवार को दिन भर पार्टी कार्यालय के सामने विरोध का दौर चला। चतरा से इंदर सिंह नामधारी और कोडरमा से मनोज यादव को टिकट नहीं देने की मांग कार्यकर्ता कर रहे थे। एक दिन पहले बुधवार को पार्टी पदाधिकारियों की बैठक में खुलकर बाहरी उम्मीदवारों का विरोध किया गया।

शुरुआत पूर्व विधायक दिनेश उरांव ने की। पार्टी के प्रमुख नेताओं की मौजूदगी में उन्होंने कहा कि नए लोग को सीधे टिकट देने से पार्टी में गलत मैसेज जाएगा। कार्यकर्ता हतोत्साहित होंगे। दिनेश उरांव का कई पार्टी पदाधिकारियों ने समर्थन किया।

प्रदेश उपाध्यक्ष राकेश प्रसाद, विरंची नारायण सहित कई नेताओं ने बाहरी उम्मीदवारों को टिकट दिये जाने का विरोध किया। चुनाव समिति से अपील की गईविरोध के बाद पदाधिकारियों ने प्रदेश चुनाव समिति से अपील भी की। कहा गया कि वैसे नेताओं का नाम सूची में शामिल नहीं किया जाए, जो हाल ही में पार्टी में शामिल हुए हैं।

या फिर टिकट पाने के लिए भाजपा में आना चाहते हैं। यह भी कहा गया कि कई ऐसे लोगों के नाम टिकट के लिए चर्चा में हैं, जो अब तक पार्टी के प्राथमिक सदस्य भी नहीं बने हैं। सांसद इंदर सिंह नामधारी, कांग्रेस के पूर्व मंत्री मनोज यादव, आइएएस वमिल कीर्ति सिंह और मुखत्यार सिंह, आइपीएस डॉ अरुण उरांव के नाम पर पदाधिकारियों ने विरोध जताया। भाजपा में हो सकता विद्रोहकई ऐसे नेता हैं, जो टिकट नहीं मिलने पर विद्रोह कर सकते हैं।

जिनका टिकट कटने की संभावना है, वे दूसरे दलों में संभावना भी तलाश रहे हैं। चर्चा है कि रामटहल चौधरी और ब्रजमोहन राम को टिकट नहीं मिला, तो वे आजसू का दामन थाम सकते हैं। कुछ ऐसे भी नेता हैं, जिन्हें टिकट नहीं मिला तो खुद को चुनाव से अलग-थलग कर सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बाहरी उम्मीदवारों के सवाल पर भाजपा में मचा है बवाल