DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

केस नंबर एसएमएस के जरिए जारी करे हाइकोर्ट

रांची। झारखंड हाइकोर्ट के वकीलों ने केस फाइल करने के बाद केस का नंबर एसएमएस से जारी करने की मांग की है। साथ ही काउज लिस्ट में उतने ही मामले शामिल करने की मांग की है जितने की सुनवाई हो सके। हाइकोर्ट एडवोकेट एसोसिएशन की छह मार्च को हुई जेनरल बॉडी की बैठक में इसका प्रस्ताव पास किया गया। निर्णय लिया गया कि शीघ्र ही हाइकोर्ट को इससे अवगत करा इसे लागू करने का आग्रह किया जाएगा। बैठक में वकीलों ने कहा कि वर्तमान में जो काउज लिस्ट मिल रहे हैं वह काफी मोटे हैं।

अत्यधिक मामले लिस्ट कर लिए जा रहे हैं। जितने मामले लिस्ट किए जा रहे हैं, उनकी सुनवाई नहीं हो रही है। जितने मामले पर सुनवाई हो सकती है उतने मामले ही सूचीबद्ध किए जाने चाहिए। इससे सूची पतली होगी। कहा गया कि केस फाइल करने के बाद एसएमएस से उसका टोकन और केस नंबर जारी किया जाना चाहिए। कई बार विलंब से टोकन नंबर मिलता है इससे परेशानी होती है। शपथ पत्र दाखिल करने के नियमों में बदलाव लाने की भी मांग की गई।

कहा गया कि जिस व्यक्ति को शपथ पत्र दाखिल करना है, उसे खुद उपस्थित होकर कोर्ट में दाखिल करने के प्रावधान को अनिवार्य किया जाना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:केस नंबर एसएमएस के जरिए जारी करे हाइकोर्ट