DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टिकट नहीं मिलने से गुलाम गौस बने बागी

पटना। हिन्दुस्तान ब्यूरो। लोकसभा चुनाव लड़ने की इच्छा पूरी नहीं होने से विधान परिषद में राजद के नेता प्रो. गुलाम गौस के तेवर बागी हो गए हैं। उन्होंने साफ कर दिया है पार्टी टिकट दे तो बेहतर अन्यथा वह हर हाल में लोकसभा चुनाव लड़ेंगे। चुनाव लड़ने के लिए बेतिया लोकसभा क्षेत्र उनकी प्राथकिता होगी। बताया जा रहा है कि श्री गौस को जदयू ने किसी लोकसभा क्षेत्र से उम्मीदवार बनाने का ऑफर दिया है। हालांकि उन्होंने इससे इनकार करते हुए कहा कि लड़ेंगे तो राजद से नहीं तो निर्दलीय।

श्री गौस ने गुरुवार को अपने आवास पर प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर कहा कि राजद कीसी व्यक्ति की पार्टी नहीं है। इस बागीचे को सींचने के लिए उन्होंने खुद और कई दूसरे सहयोगियों ने अपना पसीना बहाया है। बुरे दिनों में हम पार्टी के साथ रहे और जब कुछ अच्छे दिन आने लगे तो दूसरे लोगों को तरजीह दी जा रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि धनबलियों के साथ कुछ दलबदलुओं को भी सम्मानित किया जा रहा है ओर निष्ठावान लोगों की उपेक्षा हो रही है।

यह स्थिति उनकी अकेले नहीं है। बल्कि पार्टी के कई दूसरे बड़े नेता भी इसी राह पर हैं। उन्होंने कहा कि विधान परिषद में सभापति या शिक्षा मंत्री बनने का प्रस्ताव जदयू की ओर से उन्हें मिला था। लेकिन दल छोड़ने पर उन्होंने कभी विचार ही नहीं किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:टिकट नहीं मिलने से गुलाम गौस बने बागी