DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पिछले वर्ष से 18 करोड़ कम हुई आयकर की वसूली

मुजफ्फरपुर। कार्यालय संवाददाता। पिछले साल 18 फरवरी तक उत्तर बिहार से आयकर विभाग को 59 करोड़ रुपये कर के रूप में मिले थे। इस साल 28 फरवरी तक मात्र 41 करोड़ रुपये कर की वसूली ही हो पाई है। व्यापारियों की आमदनी व निवेश पर आयकर विभाग अब एआईआर (एनुअल इन्फॉर्मेशन रिपोर्ट) तथा सीआईबी (सेंट्रल इन्वेस्टमेंट ब्यूरो) के माध्यम से नजर रखती है।

ऐसे में दस हजार रुपये से अधिक कर होने पर 15 मार्च तक व्यापारियों को अग्रिम टैक्स जमा कर देना चाहिए। ये बातें आयकर अधिकारी केके मिश्रा ने गुरुवार को चैम्बर ऑफ कामर्स सभागार में करदाताओं व चैम्बर प्रतिनिधियों के साथ आयोजित संयुक्त बैठक में कही। दो वर्ष पूर्व चैम्बर के साथ हुई बैठक को याद करते हुए उन्होंने कहा कि उस समय व्यापारियों के सहयोग से विभाग ने कर वसूली का अपना लक्ष्य हासिल किया था, इस साल भी उम्मीद है कि व्यापारी निराश नहीं करेंगे।

साथ ही कहा कि इस साल कर वसूली का लक्ष्य 165 करोड़ रुपये हो गया है, लेकिन वसूली घट गई है। बैठक में अपर आयकर आयुक्त यूसी मिश्रा, आयकर अधिकारी बीके तिवारी, आयकर निरीक्षक संजय कुमार वर्मा व संतोष चौधरी शामिल हुए वहीं चैम्बर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष मोतीलाल छापडिम्या तथा उपाध्यक्ष रमेशचंद्र टिकमानी ने अधिकारियों का स्वागत किया। बैठक में चैम्बर के महामंत्री पवन बंका, आनंद केडिया, सज्जन शर्मा, राजीव केजरीवाल, प्रमोद तुलस्यान के अलावा दर्जनों करदाता व्यापारी उपस्थित थे।

व्यापारियों की ओर से श्री छापडिम्या व टिकमानी ने आयकर अधिकारियों को सहयोग का आश्वासन देते हुए कहा कि वे व्यापारियों में अग्रिम कर के लिए जागरुकता पैदा करेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पिछले वर्ष से 18 करोड़ कम हुई आयकर की वसूली