DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीडीपी की छात्रों पर लगी धाराओं को हटाने की मांग

पीडीपी की छात्रों पर लगी धाराओं को हटाने की मांग

जम्मू-कश्मीर की विपक्षी पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी ने एक क्रिकेट मैच के दौरान पाकिस्तानी टीम के पक्ष में मेरठ में कथित नारेबाजी करने वाले कश्मीरी छात्रों के खिलाफ लगाए गए देशद्रोह के आरोप को गुरुवार को हटाने की मांग की। इस मैच में भारत हार गया था।

पीडीपी ने कहा है कि उत्तर प्रदेश सरकार और विश्वविद्यालय को उनसे माफी मांगनी चाहिए। पीडीपी के मुख्य प्रवक्ता नयीम अख्तर ने संवाददाताओं को बताया कि जैसा कि मीडिया के कुछ धड़ों में खबर आई है, विश्वविद्यालय प्रशासन ने स्वीकार किया है कि 200 छात्रों (कश्मीरियों) के बीच सिर्फ कुछ ही संकटकारी हैं। उन सभी का बोरिया बिस्तर बांध कर भेज कर उन्हें सामूहिक सजा दी गई है। यह एक फासीवादी मानसिकता को जाहिर करता है।

उन्होंने आरोप लगाया कि समाजवादी पार्टी और भाजपा एक गैरजरूरी मुद्दे पर राजनीतिक फायदा उठाने के लिए कश्मीरी छात्रों के साथ एक जुट हो गई है। उन्होंने कहा कि अतीत में प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति जैसे अति विशिष्ट लोगों (वीआईपी) ने भारत-पाकिस्तान मैच देखा है और प्रतिद्वंद्वी टीम के प्रदर्शन की सराहना की है। उस वक्त हमने इसे सहिष्णुता एवं दोस्ती कहा और अब कश्मीरी छात्रों के लिए यह काम देशद्रोह बन गया है।

अख्तर ने पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ द्वारा भारतीय कप्तान एमएस धोनी की तारीफ किए जाने का हवाला दिया। पीडीपी प्रवक्ता ने कहा कि छात्रों के खिलाफ देशद्रोह का आरोप हटाया जाना चाहिए और उन्हें विश्वविद्यालय में वापस आना चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया कि प्राथमिकी भाजपा के एक स्थानीय नेता की शिकायत पर दर्ज किए जाने की बात पूरे मामले को संदेहास्पद बनाता है।

इस बीच, सत्तारूढ़ नेशनल कांफ्रेंस ने भी देशद्रोह के आरोप पर रोष जताते हुए कहा कि छात्रों ने न तो सरकार गिराने की कोशिश की ना ही राष्ट्रीय अखंडता को नुकसान पहुंचाने की। नेकां के अतिरिक्त महासिचव शेख मुस्तफा कमाल ने कहा कि छात्रों को निकाल देना और उनके खिलाफ देशद्रोह का एक मामला दर्ज किया जाना अन्याय है और इससे दोहरे मानदंड की बू आती है।

गौरतलब है कि एशिया कप में पिछले रविवार को भारत के खिलाफ एक मैच के दौरान पाकिस्तान क्रिकेट टीम का कथित तौर पर समर्थन किए जाने पर मेरठ के स्वामी विवेकानंद सुभारती विश्वविद्यालय के करीब 60 कश्मीरी छात्रों को निष्कासित कर दिया दिया गया। अनाम छात्रों के खिलाफ आज देशद्रोह के आरोप लगाए गए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पीडीपी की छात्रों पर लगी धाराओं को हटाने की मांग