DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

समझदारी से खर्च करे रक्षा मंत्रालय: पी चिदंबरम

समझदारी से खर्च करे रक्षा मंत्रालय: पी चिदंबरम

हाल की पनडुब्बी दुर्घटना के संदर्भ में वित्त मंत्री पी चिदंबरम से कांग्रेस पार्टी की छात्र इकाई एनएसयूआई की एक सदस्या ने रक्षा मंत्रालय को पर्याप्त धन उपलब्ध कराने का मुद्दा उठाया पर इसके जवाब में पर चिदंबरम का मत था कि सेनाएं सूझबूझ के साथ खर्च नहीं कर रही हैं।

एनएसयूआई की इस सदस्या ने दावा किया था कि वह उस दुर्घटना में मत एक नौसैनिक अधिकारी की बहन है। चिदंबरम ने घटना के लिए नौसेना को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि ऐसा लगता है कि पनडुब्बी की मरम्मत को नजरअंदाज किया गया और इस दुर्घटना एवं इसमें मारे गए लोगों के लिए उन्हें अफसोस है।

वित्त मंत्री ने जोर दिया कि उनका मंत्रालय रक्षा मंत्रालय को काफी धन उपलब्ध कराता है और मैं उम्मीद करता हूं कि रक्षा बल इस घटना से सबक लेंगे और यह सुनिश्चित करेंगे कि उन्हें आबंटित धन को आवश्यक मामलों में बहुत समझदारी से खर्च किया जाय।

एनएसयूआई द्वारा यहां आयोजित एक कार्यक्रम में उस महिला ने कहा कि आईएनएस सिंधुरत्न दुर्घटना में मारे गए लेफ्टिनेंट कमांडर कपीश मुवाल उनके भाई थे। उन्होंने चिदंबरम से पूछा कि सरकार सुरक्षा के लिए धन मंजूर क्यों नहीं कर रही है, क्योंकि इस तरह की घटनाएं हो रही हैं।

उन्होंने कुछ महीने पहले आईएनएस सिंधुरक्षक पनडुब्बी डूबने की घटना का भी हवाला दिया और कहा कि पोतों को ठीक करने के लिए भेजा जा रहा है क्योंकि रक्षा बलों के पास धन की कमी है। इस पर चिदंबरम ने कहा कि जहां तक रक्षा खर्च का संबंध है, मुझे लगता है कि यह कहना सही नहीं होगा कि पर्याप्त धन उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है। पर्याप्त जैसी कोई चीज नहीं होती।

उन्होंने कहा कि सरकार की जरूरतें बहुत अधिक हैं और वित्त मंत्रालय को विभिन्न विभागों व उद्देश्यों के लिए धन की जरूरत होती है और रक्षा क्षेत्र के लिए हमने जितना अधिक हो सकता था, उतना धन उपलब्ध कराया है। चिदंबरम ने कहा कि वित्त मंत्रालय ने रक्षा के लिए 2.25 लाख करोड़ रुपये आबंटित किया है जो बहुत धन होता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:समझदारी से खर्च करे रक्षा मंत्रालय: पी चिदंबरम