DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आईएमए ने हड़ताल वापस ली, सीनियर डांक्टर काम पर लौटे

सपा विधायक और जूनियर डांक्टरों के बीच संघर्ष के बाद पिछले छह दिन से चली आ रही डांक्टरों की हड़ताल प्रदेश शासन द्वारा एस्मा लगाए जाने और हाईकोर्ट के आदेश के बाद समाप्त हो गयी है।

इंडियन मेडिकल ऐसोसिएशन कानपुर के अध्यक्ष ने कहा कि आईएमए ने अपनी हड़ताल वापस ले ली और हम आज से काम पर है। उधर गणेश शंकर विद्यार्थी मेडिकल कालेज कानपुर के प्रिसिंपल का कहना है कि आज से सभी फैकल्टी टीचर अपने अपने विभागों में आ गए हैं और धीरे-धीरे मेडिकल कॉलेज की व्यवस्था सामान्य हो रही है।

आज दोपहर करीब 12 बजे सभी गिरफ्तार 24 जूनियर डाक्टर जेल से बाहर आ गये हैं और उनका इस समय उर्सला हास्पिटल में मेडिकल किया जा रहा है। लेकिन मेडिकल कॉंलेज के जूनियर डाक्टर अभी भी काम पर नहीं लौटे हैं। उनका कहना है कि सभी 24 जूनियर डांक्टर के ऊपर लगाये गये संगीन आपराधिक मामले हटाये जायें तभी वह काम पर वापस आयेंगे। इस बीच खबर मिली है कि मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डां नवनीत कुमार ने आईएमए की अध्यक्ष और मेडिकल कालेज की मेडिसिन विभाग की प्रमुख डां आरती लाल चंदानी को उनके मेडिसिन विभाग के प्रमुख पद से हटा दिया है लेकिन इस बात की पुष्टि न तो डां कुमार कर रहे हैं और न ही डां चंदानी।

कानपुर जेल जहां मेडिकल छात्र बंद थे वहां छात्रों को जेल से बाहर निकलवाने पहुंची इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की अध्यक्ष डां आरती लाल चंदानी ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि आईएमए ने अपनी हड़ताल वापस ले ली है और सभी डांक्टर आज से काम पर वापस आ गये हैं। उन्होंने कहा कि वह खुद मेडिकल कालेज में अपने विभाग में हाजिरी देकर यहां छात्रों को छुड़वाने आयी हैं।

उनसे पूछा गया कि जूनियर डांक्टर तो गिरफ्तार छात्रों के मुकदमें वापसी तक काम पर आने को तैयार नहीं हैं, इस पर चंदानी ने कहा कि मेरी सबसे पहली प्राथमिकता इन छात्रों को छुड़ाकर इलाज कराने की है क्योंकि ये छात्र बुरी तरह से घायल हैं। जहां तक इन छात्रों पर लगे आपराधिक मुकदमों की बात है उस बारे में शासन स्तर पर बात हो रही है और शीघ्र ही उस समस्या का समाधान भी निकल आएगा।

उन्होंने कहा कि जो जूनियर डांक्टर काम पर नहीं आए हैं उनसे भी बातचीत की जाएगी और उन्हें समझाया जाएगा। हमें उम्मीद है कि वह भी जल्द ही काम पर वापस आ जाएंगे। उन्होंने कहा कि धीरे-धीरे गणेश शंकर विद्यार्थी मेडिकल कालेज कानपुर की स्थिति सामान्य हो जाएगी। उनसे पूछा गया कि क्या पूरे प्रदेश में हड़ताल वापस हो गयी है इस पर उन्होंने कहा कि आईएमए ने जो हड़ताल की घोषणा की थी वह वापस हो गयी है अब प्रदेश के अन्य मेडिकल कालेजों में जूनियर डांक्टर काम पर आये है या नहीं इस बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है।

उधर दूसरी ओर गणेश शंकर विद्यार्थी मेडिकल कालेज के प्रिसिंपल डां नवनीत कुमार ने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा एस्मा लगाये जाने तथा हाईकोर्ट द्वारा हड़ताल खत्म करने के आदेश के बाद आज सुबह दो बजे डांक्टर ने अपनी हड़ताल वापस ले ली और आज सुबह से वह काम पर वापस आ गये हैं। मेडिकल कॉंलेज के जिस एलटी 3 हाल में हड़ताली डांक्टर अपनी बैठक कर रहे थे उसे भी रात में ही खाली करवा लिया गया था।

उन्होंने कहा कि कॉलेज के सभी फैकल्टी डांक्टर से कह दिया गया है कि वह आज सुबह से अपनी अपनी फैकल्टी में बैठे और मरीजों का इलाज शुरू करें। उन्होंने कहा कि आज से सभी ओपीडी में काम शुरू हो गया है तथा मरीजों की आवाजाही भी शुरू हो गयी है।

उधर मेडिकल कॉलेज से खबर मिली है कि प्रिसिंपल डां नवनीत कुमार ने इस आंदोलन की मुखिया और आईएमए की अध्यक्ष डां आरती लाल चंदानी को उनके मेडिसिन विभाग के प्रमुख के पद से हटा दिया गया है लेकिन इस बात पर डां चंदानी और डां नवनीत कुमार ने कुछ भी बात करने से इंकार कर दिया।

कॉलेज के सूत्रों के मुताबिक जूनियर डांक्टर इस बात पर अड़े है कि जब तक उनके साथियों पर लगाये गये आपराधिक मुकदमें वापस नहीं होते हैं वह काम पर नही लौटेंगे। इस पर प्रिसिंपल डां कुमार का कहना है कि जूनियर डांक्टर को समझाने की कोशिश की जा रही है और वह भी जल्द ही काम पर लौट आयेंगे।

उधर मेडिकल कालेज के डांक्टर का एक प्रतिनिधि मंडल कल रात समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव से भी मिलने गया था जहां उन्होंने डांक्टर की मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करने का आश्वासन दिया था।

गौरतलब है कि पिछली 28 फरवरी को सपा विधायक इरफान सोलंकी और जूनियर डांक्टर के बीच संघर्ष के बाद कानपुर मेडिकल कालेज समेत प्रदेश के सभी मेडिकल कालेजों में डांक्टर ने हड़ताल कर दी थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आईएमए ने हड़ताल वापस ली, सीनियर डांक्टर काम पर लौटे