DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

धर्मांतरण के खिलाफ पाली गांव में लगी पंचायत

भुरकुंडा। हिन्दुस्तान प्रतिनिधि। सनातन और सरना धर्म छोड़ दूसरे धर्म को अपनाने वाले 7 ग्रामीणों के खिलाफ भदानीनगर पाली गांव के शिवमंदिर परिसर में ग्रामीणों की बैठक हुई। इसमें शामिल बेदिया समाज का कहना था कि बहला-फुसला कर कुछ लोग भोले-भाले ग्रामीणों का धर्मांतरण करवा रहे हैं। जो सरासर गलत है। ग्रामीणों की पहल पर सात में से चार लोगों ने वापस सनातन सरना धर्म अपना लिया।

वहीं, तीन लोग जोधन बेदिया उर्फ जोधन पास्टर, चंद्रू बेदिया और तिलेश बेदिया ने समाज का फैसला मानने से इंकार किया। इसके बाद बैठक में तीनों के खिलाफ गांव छोड़ने का फरमान जारी हुआ।

इसे स्वीकारते हुए तीनों ने समाज को धर्म के लिए गांव छोड़ने का बकायदा एकरारनामा लिख कर दिया। आगे ग्रामीणों ने तीनों जोधन, चंद्रू और तिलेश को अर्धनग्न कर गांव के सीमाने से बाहर खदेड़ दिया। इसके बाद तीनों भुक्तभोगी भदानीनगर थाना पहुंचे। उनकी शिकायत पर पुलिस गांव में छानबीन कर रही है।

थाना प्रभारी ने कहा कि जांच के बाद पुलिस कानून सम्मत कार्रवाई करेगी। इधर, ग्रामीणों ने जबरन हो रहे धर्मामरण के खिलाफ डीसी, एसपी सहित पुलिस प्रशासन के अधिकारियों को संयुक्त हस्ताक्षरयुक्त पत्र लिखने की बात कही है।

बैठक में स्वामी गोपाल आनंद बाबा, विहिप के सुरेश उपाध्याय, रोहन बेदिया, मोतीनारायण सिंह, देवधर बेदिया, जागेश्वर बेदिया, प्रदीप बेदिया, महेश बेदिया, महेंद्र बेदिया, महाराज बेदिया, चितरंजन बेदिया, दीपक सिंह, नंदू, अंजलि देवी, रीता देवी, सीता देवी, रेवंती देवी आदि शामिल थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:धर्मांतरण के खिलाफ पाली गांव में लगी पंचायत