DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्थानीय नीति प्रारूप का खुलासा होने पर सदन में

रांची। हिन्दुस्तान ब्यूरो। विधानसभा में बुधवार को स्थानीय नीति के प्रारूप का खुलासा होने पर काफी शोरगुल हुआ। अखबार में खबर छपने पर कई विधायकों ने चिंता जताई। कहा कि यह सदन की अवमानना है। स्थानीय नीति को अंतिम रूप नहीं दिया गया है, लेकिन समिति के सदस्यों ने अखबार को प्रारूप दे दिया है।

यह जानकारी पहले सदन को दी जानी चाहिए थी। स्पीकर शशांक शेखर भोक्ता ने कहा कि स्थानीय नीति तय होने तक अखबार में कोई खबर नहीं आनी चाहिए। प्रारूप समिति के संयोजक सह संसदीय कार्यमंत्री राजेन्द्र प्रसाद सिंह ने कहा कि अखबार को उनके द्वारा कोई जानकारी नहीं दी गई है।

प्रेस के लोगों ने उनसे जानकारी मांगी थी। उन्होंने इतना कहा था कि 75 प्रतिशत काम हो गया है। बुधवार को पुन: बैठक होगी, जिसमें अंतिम निर्णय लिया जाएगा।

समिति के सदस्य बंधु तिर्की ने कहा कि संयोजक ने सदस्यों को मीडिया को जानकारी देने से मना किया था। इसके बाद भी इसका खुलासा कर दिया गया। मंगलवार को राजेन्द्र सिंह की अध्यक्षता में प्रारूप समिति की बैठक हुई थी।

क्या कहा नेताओं ने संयोजक को पद और गोपनीयता का ख्याल रखना चाहिए। अर्जुन मुंडा, नेता प्रतिपक्ष प्रारूप समिति के फैसले की जानकारी अखबार के माध्यम से मिलना सदन की अवमानना है। निर्भय शाहाबादी, झाविमो विधायकसरकार ने जानबूझ कर झुनझुना छपवाया है।

सब चुनाव को ध्यान में रखकर किया जा रहा है। समिति का प्रारूप संविधान की मूल भावना के विपरीत है। सीपी सिंह, पूर्व स्पीकर झामुमो राज्यस्तरीय नीति बनाने की मांग कर रहा है, जबकि समिति जिलास्तरीय नीति बना रही है। जगरनाथ महतो, झाविमो विधायक।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: स्थानीय नीति प्रारूप का खुलासा होने पर सदन में