DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जिला परिषद से डीडीसी कार्यालय तक हंगामा

मुजफ्फरपुर। कार्यालय संवाददाता। ‘यह गुंडई नहीं तो और क्या है। साल भर से सिर्फ दौड़ाया जा रहा है। 20 फरवरी को काउंसलिंग हुई, लेकिन आज तक नियुक्ति पत्र नहीं दिया गया। पहले पांच फरवरी की तिथि विद्यालय चयन के लिए निर्धारित की गई।

यहां आने पर सूचना टांग दी गई कि कार्यक्रम स्थगति हो गया है। ’ काउंसलिंग के बावजूद स्कूल आवंटन व नियुक्ति पत्र नहीं मिलने से गुस्साए जिला परिषद नियोजन इकाई के अभ्यर्थियों ने कुछ इस अंदाज में अपनी भड़ास निकाली।

बुधवार को तिथि निर्धारित होने के बावजूद बिना सूचना अचानक कार्यक्रम स्थगति करने से गुस्साए अभ्यर्थियों ने जमकर बवाल काटा। जिला परिषद से डीडीसी कार्यालय तक हंगामा किया। पुलिस-प्रशासन व डीडीसी के आश्वासन पर देर शाम किसी तरह अभ्यर्थियों का गुस्सा शांत हुआ।

हर दिन बदल जाता है यहां का आदेशवैशाली, दरभंगा, सीतामढ़ी समेत अन्य जगहों से आए कामेश्वर साह, नम्रता, रंजना, संगीता समेत सभी 215 चयनित अभ्यर्थियों ने बताया कि हमारे भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। सरकार का आदेश तो एक तरफ, यहां हर दिन साहबों का आदेश बदलता रहता है।

बिना किसी अधिकारी के हस्ताक्षर के ही यहां सूचना टंग जाती है। 20 को हंगामे के बाद काउंसलिंग हुई तो नियुक्ति पत्र नहीं दिया गया। मंगलवार चार मार्च को जब हम लोग आए तो पांच मार्च को विद्यालय चयन व नियुक्ति पत्र के लिए बुलाया गया।

आज यहां आए तो सूचना मिली कि कार्यक्रम स्थगति कर दिया गया है। इस सूचना पर किसी अधिकारी का हस्ताक्षर भी नहीं है। दोपहर दो बजे तक किसी अधिकारी के नहीं मिलने पर अभ्यर्थियों ने डीडीसी कार्यालय में धावा बोला।

चयनित अभ्यर्थियों के साथ ही अब तक काउंसलिंग नहीं होने से आक्रोशित अनट्रेंड अभ्यर्थियों ने भी यहां हंगामा किया। अभ्यर्थियों के गुस्से और हंगामे को देखते हुए थाने को सूचना दी गई। मौके पर पहुंचकर टाउन डीएसपी अनिल कुमार सिंह ने स्थिति को नियंत्रित किया।

बयान:आचार संहिता लागू हो जाने के कारण नियुक्ति पत्र नहीं बांटा जा सका है। विभाग से मार्गदर्शन मांगा गया था। इस संबंध में अभ्यर्थियों को समझा दिया गया है। अब्दुससलाम अंसारी, डीपीओ स्थापना।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जिला परिषद से डीडीसी कार्यालय तक हंगामा