DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो ने लगाई फांसी, एक ने आग लगाकर दी जान

शाहजहांपुर। हिन्दुस्तान संवाद।  अलग-अलग स्थानों पर दो महिलाओं ने फांसी लगाकर जान दे दी, जबकि मानिसक रूप से परेशान एक लड़की ने भी आग लगाकर आत्महत्या कर ली। रोजा में हुईं दोनों घटनाओं की सूचना पुलिस को नहीं दी गई है। वहीं मीरानपुर कटरा पुलिस ने महिला के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है।

केस नम्बर-एक स्कूल संचालक की पत्नी ने दे दी जान मीरानपुर कटरा। मुगलान मोहल्ला निवासी स्कूल संचालक राजाराम राठौर पिरजन िरश्तेदार के यहां वैवाहिक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए ितलहर गए थे। घर पर राजाराम और पत्नी सुमन, बेटे राज व िनशान थे। मंगलवार रात राजाराम दोनों बेटों के साथ कमरे में सो गया, सुबह जागने पर वह पत्नी को जगाने के लिए उसके कमरे में घुसा तो उसकी लाश छत के कुंडे से लटकी थी, धोती से गले में फांसी का फंदा कसा था।

यह देखकर राजाराम के होश उड़ गए। सूचना मिलने पर सुमन के पिता हिरओम व मां राजवेटी भी ितलहर से पिरजनों के साथ आ गईं। एसओ नरेन्द्र यादव ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। एसओ नरेन्द्र यादव ने बताया कि मायके वालों ने कोई शिकायत नहीं की है। केस नम्बर -दो फांसी पर झूल गई महिला रोजा। क्षेत्र के एक गांव निवासी महिला का परिवार में किसी बात को लेकर विवाद हो गया। इससे वह नाराज हो गई।

मंगलवार रात में परिवार के लोग सो गए, तभी उसने कमरे में रस्सी से फांसी का फंदा बनाकर जान दे दी। सुबह जब परिवार के लोगों की आंख खुली तो देखा कि महिला फांसी के फंदे पर झूल रही थी। यह देखकर घर में कोहराम मच गया। गांव के लोग भी इकठ्ठे हो गए। पिरजनों ने पुलिस को सूचना दिए बिना ही शव को फांसी के फंदे से उतार लिया। मामले की जानकारी मिलने पर मृतका के मायके वालेजिंला लखीमपुर खीरी के थाना पसगवां से आ गए, लेकिन उन लोगों ने भी कोई तहरीर नहीं दी।

वहीं एसओ राजेश ने बताया कि थाने पर इस तरह की कोई सूचना नहीं है। केस नम्बर-तीन कमरे में बंद करके लगा ली आग रोजा। क्षेत्र के एक गांव निवासी सरकारी महकमे के िरटायर कर्मचारी पत्नी के साथ िरश्तेदार के यहां शादी में गए थे। घर पर 25 वर्ष की बेटी अपनी बहन और भाई के साथ मौजूद थी। बुधवार दोपहर बहन और भाई घर से बाहर िनकल गए, तभी लड़की ने कमरा बंद करके आग लगा ली। कमरे के अंदर से जब धुआं िनकला, तब फिर भाई-बहन को जानकारी हुई, तो उन लोगों ने शोर मचाना शुरू कर दिया, तभी आस-पास के लोग इकठ्ठे हो गए।

दरवाजा तोड़कर जब-तक आग बुझाई लड़की की मौत हो चुकी थी, जानकारी मिलने पर उसके पिता और मां भी आ गईं। माता-पिता ने बताया कि बेटी कई महीने से मानिसक रूप से परेशान थी, उसका लखनऊ से इलाज चल रहा था, इसी वजह से उसने आत्महत्या कर ली।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो ने लगाई फांसी, एक ने आग लगाकर दी जान