DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली तक होगा दवा के नए कानून का विरोध

बस्ती। निज संवाददाता। दवाओं के लिए केन्द्र सरकार की ओर से बनाए गए नए कानून का बस्ती से दिल्ली तक विरोध होगा। इस नए कानून का तीन चरणों में आन्दोलन कर विरोध जताया जाएगा। 15 अप्रैल के पहले होने वाले इस आन्दोलन का समापन दिल्ली में संसद का घेराव के साथ होगा। यह बातें अखिल भारतीय व्यापारी संघर्ष मोर्चा के प्रदेश संयोजक अमरमणि पाण्डेय ने कही।

वह दवा व्यापारियों की बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। दवा व्यापारियों को सम्बोधित करते हुए प्रदेश संयोजक श्री पाण्डेय ने कहा कि दवा का नया कानून श्डय़ूल एच-1 कानून से टीबी और संक्रमण के गंभीर मरीजों के सामने भारी संकट पैदा हो जाएगा। इसकी सबसे अधिक मार गरीब मरीजों पर पड़ेगी। श्री पाण्डेय ने बताया कि इस कानून के तहत एटीटी (एन्टी टय़ूबर क्लोसिस) टीबी की दवा, अत्यधिक क्षमता की एन्टीबायोटिक दवा और डिप्रेशन सहित 46 दवाओं को बिना एमबीबीएस के लिखे पर्चे के नहीं खरीदा जा सकता है।

टीबी के मरीज को 6 से 9 माह तक दवा खाना होता है। आमतौर पर टीबी के अधिकांश मरीज गरीब तबके के होते हैं, जो दवा की रैपर को दिखा कर गांवों के मेडिकल स्टोर से दवा खरीद लेते हैं। इसे बिना नागा किए खाना होता है। यदि पर्चे के अभाव में किसी मरीज के दवा खाने में नागा हो जाता हो, फिर मरीज को फिर से उतने दिन ही दवा खाना पड़ेगा। संगठन पदाधिकारी बीएम शुक्ल ने कहा कि नए कानून के तहत इन दवाओं का प्रतिदिन हिसाब रखा जाना है।

सरकार के नए नियम के अनुसार अब इन दवाओं की मार्जिन निर्धारित कर दी गई है, जो काफी कम है। बड़े दुकानदारों के लिए इन दवाओं का बही खाता रखना आसान होगा, लेकिन छोटे दुकानदार इस रखने में परेशान होंगे और वह इन दवाओं की बिक्री नहीं करेंगे। कारण हिसाब किताब में किसी प्रकार की कोताही मिलने पर व्यापारी को सीधे जेल होगी। ऐसे में व्यापारी दवा न बेचना ही उचित समङोगा, जिसकी सीधी मार मरीजों पर पड़ेगी। जिलाध्यक्ष रमेश सिंह व वरिष्ठ व्यापारी नेता सुभाष शुक्ल ने कहा कि इस नए कानून के विरोध में तीन चरणों में आनन्दोलन होगा।

पहले चरण में स्थानीय प्रशासन के ज्ञापन दिया जाएगा। दूसरे चरण में केन्द्र सरकार और नए कानून का पुतला जलाया जाएगा। तीसरे चरण में उत्तर प्रदेश व्यापार संगठन श्याम बिहारी मिश्र गुट के साथ मिलकर दिल्ली में संसद का घेराव कर नए कानून का विरोध किया जाएगा। बैठक में श्याम मोहन सिंह, गिरधारी लाल साहू, अरुण गिरोत्रा, पवन मल्होत्रा सहित अन्य दवा व्यापारी मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दिल्ली तक होगा दवा के नए कानून का विरोध