DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मनोरंजन कर अधिकारी और केबिल ऑपरेटर्स पर मुकदमे की तैयारी

 बिजनौर। हमारे संवाददाता।  मनोरंजन कर विभाग और केबिल ऑपरेटर की मनमानी को लेकर डशि उपभोक्ताओं ने जनपद में मोर्चा खोल दिया। निर्धारित समय से पहले सैटबॉक्स जबरन लगाकर उगाही करने के आरोप में उपभोक्ताओं ने मुख्यमंत्री और सूचना आयुक्त को शिकायत भेजी है।

शिकायत में मनोरंजन कर अधिकारियों, केबिल ऑपरेटर और सैटबॉक्स कंपनी ठेकेदार पर धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराने की मांग उठाई है। केबिल उपभोक्ता नासिर हसन, मौहम्मद नदीम, नौशाद, शौकत, जाकिर एडवोकेट, मौहम्मद अहमद, छोटू, चांद, बब्लू खान और मौहम्मद सलीम ने बुधवार को इस मामले में मुख्यमंत्री और सूचना आयुक्त को शिकायत भेजी। इन्होंने कहा कि, बिजनौर जनपद में सितंबर 2014 के बाद सैटबॉक्स लगने की सिर्फ संभावना थी, लेकिन केबिल ऑपरेटर ने दिसबंर 2013 से ही सैटबॉक्स लगाने का खेल किया है।

उपभोक्ताओं का आरोप है कि, सैटबॉक्स लगवाने के लिये दबाव बनाकर चैनल बंद कर दिये गए और सैटबॉक्स भी दूसरे शहरों से महंगे लगाए गए। इन्होंने कहा कि, जिस सैटबॉक्स की बाजार में कीमत 700 रुपये कम है, उसे उपभोक्ताओं को 12 से 14 सौ रुपये तक दिया जा रहा है, जो उपभोक्ता सैटबॉक्स नहीं लगवा पाए हैं, उन्हें मासिक शुल्क दिये जाने के बावजूद चैनल नहीं मिल रहे हैं। इन्होंने कहा कि, वह उपभोक्ता फोरम में भी वाद दायर कर चुके है।

इन्होंने कहा कि, उपभोक्ताओं से हर माह मासिक शुल्क वसूलने के बावजूद मनोरंजन कर अधिकारी और केबिल ऑपरेटर ने क्यूं चैनल बंद किये, ऐसे में केबिल ऑपरेटर और मनोरंजन कर अधिकारी पर जुर्माना लगाया जाए और इन पर धोखाधड़ी करने का मुकदमा भी दर्ज कराया जाए।

बोले अधिकारी, चैनल बंद करना गलतजिला मनोरंजन कर अधिकारी अमरनाथ ने कहा कि, सिंतबर 2014 से ही जनपद में सैटबॉक्स लगने हैं, उपभोक्ताओं के यहां जबरन सैटअप बॉक्स नहीं लगाए जा सकते हैं।

इन्होंने कहा कि, अगर उपभोक्ताओं को शिकायत है तो वह सीधे लिखित में शिकायत करें, अगर कोई केबिल ऑपरेटर चैनल कम कर रहा है या बंद कर रहा है, तो उसके खिलाफ कार्रवाई कराएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मनोरंजन कर अधिकारी और केबिल ऑपरेटर्स पर मुकदमे की तैयारी