DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अवैध खनन पर 50 लाख का जुर्माना ठोका

 विकासनगर। कार्यालय संवाददाता। अवैध खनन निरोधक सतर्कता इकाई (माइनिंग विजिलेंस) की टीम ने यमुना नदी के डाकपत्थर बैराज क्षेत्र में आवंटित खनन पट्टे पर छापेमारी की। टीम ने पट्टे की सीमाओं के बाहर हजारों घन मीटर अवैध खनन पाया। मौके पर टीम ने पट्टे धारक पर 50 लाख का जुर्माना लगाकर पट्टे को सीज कर दिया है।

अवैध खनन की निकासी पर लगी ग्यारह गाड़ियों को सीज किया गया है। दो लोगों को पूछताछ के लिए टीम अपने साथ ले गई है। अवैध खनन निरोधक सतर्कता इकाई के मुख्य अधिशासी अधिकारी संजय गुंज्याल के नेतृत्व में टीम ने डाकपत्थर बैराज क्षेत्र में आवंटित पट्टे पर छापेमारी की। पट्टे की सीमाओं के बाहर से करीब 13 हजार घन मीटर अवैध खनन पाया गया। जिस पर टीम ने पट्टा धारक के खिलाफ पचास लाख रुपये का जुर्माना काटा है।

इस दौरान खनन की निकासी कर रहे सात डंपर, तीन ट्रैक्टर-ट्राली और एक स्कार्पियो को सीज किया गया। खनन से जुड़े दो लोगों को टीम अपने साथ दून पूछताछ के लिए ले गई है। मुख्य अधिशासी अधिकारी संजय गुंज्याल ने पत्रकारों को बताया कि अवैध खनन में पूछताछ के दौरान कई गड़बडिम्यां करने और राजस्व की चोरी करने मेंबबलू का नाम सामने आया है। बबलू के खिलाफ जांच शुरू कर दी गई है। आवश्यकता पड़ने और तथ्य सामने आने पर बबलू के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जा सकता है।

0000सरकार को लगाया जा रहा है लाखों का चूनाछापेमारी के दौरान मुख्य अधिशासी अधिकारी को खनन से जुड़े् लोगों ने बताया कि सुबह के समय ट्रकों को तीन हजार रुपये का एक रवन्ना दिया जाता है। उसके बाद बबलू नाम का व्यक्ति खनन निकासी करने वालों से दिनभर प्रति ट्रक पंद्रह सौ रुपये वसूल कर एक ही रवन्ने पर कई चक्कर निकासी करवाता है। जिससे लाखों रुपये के राजस्व चोरी की जा रही है। बताया कि राज्य सरकार को सिर्फ नौ सौ रुपये रायल्टी प्रति ट्रक जाती है।

जबकि रवन्ना ढाई से तीन हजार का काटा जा रहा है। उसमें भी एक बार रवन्ना काटने के बाद बिना रवन्ने के अवैध खनन को डेढ़ हजार प्रति ट्रक के हिसाब से निकासी की जा रही है। 000मुख्य अधिशासी अधिकारी ने बताया कि खनन पट्टे के बाहर राजस्व पुलिस और वन विभाग का बैरियर लगा है। लेकिन वहां से कैसे एक ही रवन्ने पर कई ट्रक जाते हैं। क्या दोनों विभागों की टीम चैक करती है। जिससे दोनों विभागों की कार्यप्रणाली को लेकर सवाल खड़े होते हैं।

खनन पट्टा धारक ने खनन स्थल पर धर्मकांटा नहीं लगाया है। जिससे खनन की निकासी करने वाले वाहन ओवरलोडिंग करते हैं। इस मौके पर सीओ विकासनगर एसके सिंह, कोतवाल राजीस डंडरियाल सहित पुलिस और राजस्व विभाग की टीम शामिल रही। 000कौन है बबलू..मुख्य अधिशासी अधिकारी संजय गुंज्याल की कार्रवाई के दौरान पूरे खनन क्षेत्र में एक ही नाम सारे लोगों की जुबान पर था। बबलू भाई, ये बबलू भाई कौन हैं। कोई इसका जवाब नहीं दे पाया। जिस पर मुख्य अधिशासी अधिकारी ने कहा कि बबलू कौन है, क्या करता है।

उसकी विस्तार से जांच की जाएगी। कहा कि आवश्यकता होने पर बबलू के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अवैध खनन पर 50 लाख का जुर्माना ठोका