DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेटी का बलात्कार करने पर पिता को उम्रकैद

नई दिल्ली वरिष्ठ संवाददाता। दस साल की मासूम बेटी से बलात्कार करने वाले पिता को अदालत ने उम्रकैद की सजा सुनाई है। रोहिणी स्थित एडशिनल सेशन जज इला रावत ने फैसला सुनाते हुए कहा कि पीड़िता के बयान से स्पष्ट रूप से उसकी दुर्दशा और व्यथा सामने आती है। यह गौरतलब है कि दोषी की हरकतांे के कारण पीड़िता और उसकी छोटी बहनें और भाई अब बालगृह में अनाथों की जिंदगी जी रहे हैं। दरअसल पीड़िता की मां संदिग्ध परिस्थितियों में 2011 में लापता हो गई थी।

उसके बाद से और 40 वर्षीय अभियुक्त पीड़िता और उसके तीन भाई बहन के लिए इकलौता सहारा था। अदालत ने ओडशिा से ताल्लुक रखने वाले दोषी पर 10 हजार रुपये का जुर्माना भी किया है। अदालत ने दिल्ली सरकार को निर्देश दिया है कि वह बच्ची के पुनर्वास के लिए दो लाख रुपये का मुआवजा दे। अभियोजन पक्ष के अनुसार पीड़िता के पिता ने सोने से पहले शराब पी थी और उसने अपनी बेटी का बलात्कार किया। दर्द होने पर लड़की चीखी और शोर मचाया।

इससे पीड़िता के भाई-बहन जाग गए। बच्ची की चीख सुनकर वहां पड़ोसी भी एकठ्ठा हो गए। लड़की के खून बह रहा था। पिता उसे डाक्टर के पास ले गया। बगल में ही रहने वाले बच्चों के रशि्तेदारों ने पुलिस बुला ली। कंझावला पुलिस ने बलात्कारी पिता को मौके पर ही गिरफ्तार कर लिया। मुकदमे की सुनवाई के दौरान उस व्यक्ति ने दावा किया कि इस तरह की कोई घटना नहीं हुई है। उसने दावा किया कि उसके भाई ने उसकी बेटी को समझा-बुझा कर उसके खिलाफ झूठा मुकदमा करवाया है क्योंकि पैतृक जायदाद को ले कर दोनों भाइयों के बीच विवाद चल रहा था।

बहरहाल, अदालत ने पिता का बयान यह कहते हुए खारिज कर दिया कि ऐसा कोई कारण नहीं है कि इतनी छोटी उम्र की लड़की अपने पिता को ऐसे अपराध में फंसाती।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बेटी का बलात्कार करने पर पिता को उम्रकैद