DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चंदीला को लिखित जवाब देने के लिए मिला अतिरिक्त समय

चंदीला को लिखित जवाब देने के लिए मिला अतिरिक्त समय

भारतीय क्रिकेट बोर्ड की अनुशासन समिति ने राजस्थान रॉयल्स के पूर्व ऑफ स्पिनर अजित चंदीला को अपना लिखित जवाब देने के लिए 12 मार्च तक का समय दे दिया है। बोर्ड की भ्रष्टाचार निरोधक इकाई के प्रमुख रवि सवानी ने चंदीला को पिछले साल आईपीएल में स्पॉट फिक्सिंग करने का दोषी पाया था।

चंदीला आज यहां बीसीसीआई अनुशासन समिति के समक्ष पेश हुए और उनके खिलाफ लगाए गए आरोपों पर अपने बचाव में तर्क दिये। इस समिति में बोर्ड अध्यक्ष एन श्रीनिवासन, राजीव शुक्ला और शिवलाल यादव हैं। चंदीला ने अनुशासन समिति से लिखित जवाब देने के लिए अतिरिक्त समय देने का आग्रह किया।

बीसीसीआई सचिव संजय पटेल ने बयान में कहा कि अनुशासन समिति ने अजित चंदीला के आग्रह पर सहमति जतायी तथा उन्हें अपना अंतिम लिखित जवाब देने के लिए 12 मार्च 2014 तक का समय दिया।

चंदीला ने हालांकि खुद को निर्दोष बताया लेकिन वह कड़ी सजा भुगतने के लिए तैयार दिखे। उन्होंने बैठक के स्थल आईटीसी मौर्य में पत्रकारों से कहा कि कोई मेरा पक्ष नहीं ले रहा है। मैं जानता हूं कि उनका फैसला क्या होगा। शायद मुझ पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया जाएगा। लेकिन मैंने कुछ भी गलत नहीं किया।

उन्होंने कहा कि मुझसे 12 मार्च तक जवाब देने के लिए कहा गया है और मैं ऐसा करूंगा। देखते हैं कि उसके बाद क्या होता है। चंदीला और राजस्थान रॉयल्स के उनके साथी एस श्रीसंत, अंकित चव्हाण, अमित सिंह और सिद्धार्थ त्रिवेदी को स्पॉट फिक्सिंग में शामिल होने का दोषी पाया गया था।

अनुशासन समिति ने श्रीसंत और चव्हाण पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया था। त्रिवेदी को 12 महीने और अमित सिंह को पांच साल के प्रतिबंधित किया गया है। चंदीला एकमात्र ऐसे हैं जिन्हें अब तक सजा नहीं मिली क्योंकि आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग में उन्हें सबसे आखिर में जमानत मिली थी। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चंदीला को लिखित जवाब देने के लिए मिला अतिरिक्त समय