DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

156 स्कूलों ने नर्सरी ड्रॉ रोका

156 स्कूलों ने नर्सरी ड्रॉ रोका

ट्रांसफर वर्ग समाप्त किए जाने के विरोध में दायर याचिका का दिया हवाला
नर्सरी दाखिले में ट्रांसफर वर्ग समाप्त किए जाने के विरोध में हाईकोर्ट में याचिका दायर हो चुकी है। क्या ट्रांसफर वर्ग शुरू किया जा सकता है या फिर इस वर्ग के जायज अभिभावकों के लिए नई व्यवस्था बनेगी, स्कूल असमंजस में हैं। लिहाजा, मंगलवार को 550 स्कूलों में से 156 स्कूलों में ड्रॉ नहीं हुए।  

ड्रॉ न करने वाले अधिकतर स्कूल द्वारका, रोहिणी, पीतमपुरा, प्रीत विहार, दक्षिणी दिल्ली के हैं। इन्होंने अभिभावकों को लॉटरी की प्रक्रिया के बारे में सूचित कर दिया था मगर जैसे ही अभिभावक बड़ी संख्या में स्कूल पहुंचे तो ड्रॉ नहीं किया गया। कई जगह अभिभावकों ने हंगामा भी किया। हंगामा थॉमस इंटरनेशनल, सेंट क्वीन इंटरनेशनल, भारती विकास स्कूल में हुआ। इस बाबत स्कूलों ने ड्रॉ न करने का कारण नहीं बताया लेकिन स्कूल संघ के सचिव विपुल भारद्वाज का कहना है कि बार-बार लॉटरी होने से स्कूलों पर काम का दबाव बढम् रहा है। सीबीएसई बोर्ड की परीक्षा भी चल रही है। ऐसे में शिक्षकों की कमी देखने को मिल रही है। ऐसे में कोर्ट के निर्णय के बाद ही ड्रॉ होंगे।

नये दिशा-निर्देश के खिलाफ सुनवाई आज
नई दिल्ली। नर्सरी दाखिले में स्थानांतरण श्रेणी का अंक रद्द किए जाने के खिलाफ अभिभावकों की याचिका पर हाईकोर्ट में बुधवार को सुनवाई होगी।

उपराज्यपाल डॉं. नजीब जंग द्वारा नर्सरी में दाखिले के लिए स्थानांतरण श्रेणी में 5 अंक देने के प्रावधान को रद्द किए जाने को अभिभावकों ने हाईकोर्ट में चुनौती दी है। हाईकोर्ट से अभिभावकों ने स्थानांतरण श्रेणी के अंक को बनाए रखने की मांग करते हुए कहा है कि यदि ऐसा संभव नहीं है तो सभी श्रेणी में निकाली गई लॉटरी को रद्द कर नये सिरे से लॉटरी निकाली जाए।

अभिभावकों की अनुपस्थिति में कई जगह हुई लॉटरी
नियम के अनुसार, स्कूलों द्वारा लॉटरी निकालने से पूर्व अभिभावकों को बुलाना अनिवार्य है। उनकी मौजूदगी में ही पर्ची से ड्रॉ किया जा सकता है, लेकिन रोहिणी और आनंद विहार स्थित न्यू दिल्ली इंटरनेशनल स्कूल और डिवाइन आदि स्कूल में अभिभावकों को नहीं बुलाया गया। बंद कमरे में प्रबंधन द्वारा लॉटरी निकाली गई। वहीं, जब इस बारे में स्कूल से बात की गई तो उन्होंने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। बहरहाल, अन्य जगह लॉटरी की प्रक्रिया में गड़बड़ी नहीं देखी गई। अभिभावकों ने बाकायदा मोबाइल से रिकॉर्डिग की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:156 स्कूलों ने नर्सरी ड्रॉ रोका