DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महानदी में नाव पलटी, 12 की जान बचायी गई

राउरकेला। हीराकुंड बांध के बलपसपुर घाट पर पिछले 9 फरवरी को हुए नाव हादसे में कुल 31 लोगों की जानें गईं थीं। मंगलवार को पुन: उस घटना की पुनरावृति होते-होते रह गई। जिला प्रशासन एवं दमकल विभाग के कर्मचारियों ने तत्काल मोर्चा संभाला और महानदी के मझधार में फंसे 12 लोगों की जान बचा ली।

जिन लोगों को पानी से सुरक्षित बाहर निकाला गया उनमें 5 महिला एवं सात पुरुष शामिल हैं। उनके नाम भिखारी बाग, उपेन्द्र सिंग, नरोत्तम कर्चेल, दिलखुश बर्गे, विष्णुप्रिया बढ़ेई, ताराकांत भूषण, सबिता भोई, ताराकांती भोसागर, सीता महानंद, बासंती बेहेरा एवं रोहन बर्गे बताये गये हैं।

सभी महानदी के उस पार के गांवों के रहनेवाले हैं। मिली जानकारी के अनुसार संबलपुर जिला के चारपाली एवं पोतापाली गांव के कुल 12 लोग मंगलवार की सुबह व्यक्तिगत काम से संबलपुर टाउन आए थे।

वापसी के दौरान करीब 1.30 बजे वे महानदी की सड़क घाट से नाव में सवार होकर मुंडोघाट की ओर रवाना हुए। बताया जाता है कि नाव जैसे ही नदी के बीचोबीच पहुंची, अचानक तेज हवा के साथ बारिश आरंभ हो गई। इस दौरान नाव चालक के नियंत्रण से बाहर हो गयी और पलट गयी।

चूंकि नाव पर सवार अधिकांश लोग तैरना जानते थे, इसलिए किसी प्रकार वे नदी के बीचोबीच स्थित पत्थरों तक पहुंचने में सफल हो गए। मामले की खबर मिलते ही पुलिस एवं प्रशासन के लोग वहां पहुंचे और मोटरबोट के माध्यम से फंसे लोगों को सुरक्षित तट तक पहुंचाया गया। जिला प्रशासन ने मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच का आदेश दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महानदी में नाव पलटी, 12 की जान बचायी गई