DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आवासीय इलाके में मोबाइल टॉवर के निर्माण पर रोक

मुजफ्फरपुर। कार्यालय संवाददाता। आवासीय इलाके में बगैर अनुमति के मकान की छत पर मोबाइल टॉवर निर्माण को लेकर शहर के सादपुरा निवासी डॉ. क्रांति कुमारी को नगर आयुक्त ने नोटिस जारी किया है। डॉ. क्रांति कुमारी को भेजे नोटिस में कहा गया है कि अविलंब निर्माण रोक कर नगर निगम कार्यालय में जवाब दाखिल करें कि आपके विरुद्ध नगर पालिका अधिनियम के तहत कार्रवाई क्यों नहीं की जाए।

आवासीय इलाके में मोबाइल टॉवर लगाने के लिए रोक लगी है। इसके लिए टॉवर की रेडिएशन क्षमता से होने वाली क्षति के आकलन के बाद ही नगर निगम टॉवर लगाने की अनुमति देती है। पर्यावरण विभाग की एनओसी भी टॉवर निर्माता कंपनी को निगम कार्यालय में जमा करना आनविार्य है। इसके अलावा टॉवर की ऊंचाई के मुताबिक निगम कार्यालय में शुल्क जमा कराना होता है। एक टॉवर के निर्माण पर 40 से 50 हजार रुपये तक का शुल्क निगम कार्यालय में जमा कराना है।

डॉ. क्रांति के अलावा सिकंदरपुर मोहल्ले में भी फेर जी नेटवर्क के टॉवर निर्माण के लिए निगम ने नोटिस जारी किया है। फोर जी नेटवर्क की क्षमता वाले टॉवर से अत्यधिक रेडिएशन होता है। इसे आवासीय इलाका में लगाने पर सख्त पाबंदी है। नगर आयुक्त ने डॉ. क्रांतिको छह मार्च तक टॉवर से संबंधित सभी महत्वपूर्ण कागजात जमा करने का निर्देश जारी किया है। 60 टॉवरों के लिए मोबाइल कंपनियों को नोटिसतहसीलदारों के सर्वे के मुताबिक शहर के आवासीय इलाके में 60 मोबाइल टॉवर ऐसे लगाये गये हैं जिसकी अनुमति नगर निगम से नहीं ली गई है।

इसके लिए नगर निगम चिन्ह्ति किये गये टॉवरों के मोबाइल कंपनियों को नोटिस जारी किया गया है। यह भी चेतावनी दिया गया है कि अगर कंपनी टॉवर के वैद्य कागजात नगर निगम में जमा नहीं कराती है तो नगर निगम टॉवर को बंद भी करा सकती है। नोटिस के साथ सरकार के अधिसूचना की प्रति भी मोबाइल कंपनियों को भेजी गई है। हालांकि अब तक मोबाइल कंपनियों की ओर से निगम को कोई जवाब नहीं दिया गया है। नगर निगम कार्यालय में आगे की कार्रवाई भी लंबित रखा गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आवासीय इलाके में मोबाइल टॉवर के निर्माण पर रोक