DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रद्द आवंटन बहाल कराने को चुकानी होगी मोटी रकम

ग्रेटर नोएडा। हमारे संवाददाता। किस्तें न चुकाने के चलते ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने जिन आवंटियों के प्लॉट और फ्लैट रद्द किए हैं उन्हें बहाल कराने के लिए आवंटियों को अब मोटी रकम चुकानी होगी। प्राधिकरण ने रद्द आवंटन बहाल करने के लिए एक नीति बनाई है, जिसके तहत आवंटियों को पांच फीसदी से लेकर वर्तमान दरों का दस फीसदी तक बतौर जुर्माना देना होगा।

रद्द प्लॉट बहाल कराने पर 200 वर्ग मीटर प्लॉट के आवंटी को करीब साढेम् चार लाख रुपये और 500 वर्ग मीटर के आवंटियों को साढेम् ग्यारह लाख रुपये तक जुर्माना देना होगा। बने बनाए मकानों के मामलों में यह राशि कुछ कम है लेकिन तमाम बकाएदारों पर जो किस्तें अभी तक बकाया है। बहाल किए जाने के समय उन तमाम किस्तों का भुगतान मय ब्याज के करना होगा। पिछले दिनों प्राधिकरण ने बने बनाए मकान, फ्लैट और प्लॉट करीब 1270 का आवंटन रद्द कर दिया था।

इन प्लॉटों के आवंटियों पर तीन या तीन से ज्यादा किस्तें बकाया थीं। बीते माह हुई बोर्ड बैठक में इन रद्द किए गए आवंटनों को बहाल किए जाने के लिए प्राधिकरण ने एक पॉलिसी को मंजूरी दी थी। नई पॉलिसी के तहत रद्द किए गए आवंटियों को आवंटन बहाल किए जाने की बाबत पत्र भेजे जाने शुरू कर दिए गए हैं। सम्पत्ति विभाग की ओर से भेजे जा रहे इन पत्रों में आवंटियों को बताया जा रहा है कि यदि वे अपने रद्द प्लॉट का आवंटन बहाल कराना चाहते हैं तो वर्तमान आवंटन दरों का दस फीसदी बतौर जुर्माना प्राधिकरण कार्यालय में जमा कराना होगा।

बने बनाए मकानों के मामले में 40 वर्ग मीटर तक के आवंटी को कुल कीमत का दो फीसदी और इससे बड़े आकार के मकान पर कुल कीमत का पांच फीसदी बतौर जुर्माना देना होगा। प्लॉट व फ्लैट दोनों के ही मामलों में यह शर्त भी लगाई गई है कि बहाल किए जाने के समय तक कोई बकाया आवंटियों पर नहीं होना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रद्द आवंटन बहाल कराने को चुकानी होगी मोटी रकम