अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पूर्वोत्तर में बाढ़ से 25 मरे, लाखों बेघर

देश के पूर्वोत्तर हिस्सों में मूसलाधार बारिश के कारण आई ताजा बाढ़ और भूस्खलन की घटनाओं की वजह से 25 लोगों की मौत हो गई है और दो लाख बेघर हो गए हैं। बाढ़ के पानी से घिरे ग्रामीणों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए सोमवार को सेना बुलाई गई। असम के राहत एवं पुनर्वास मंत्री भूमिधर बर्मन ने बताया कि हमें लखीमपुर और सोनितपुर जिलों से अब तक छह लोगों के मारे जाने और करीब दो लाख लोगों के बेघर होने की सूचना मिली है, जबकि बाढ़ की स्थिति विकट होती जा रही है। ड्ढr इस बीच, सोमवार को असम के सोनितपुर और लखीमपुर जिलों में बाढ़ में फंसे ग्रामीणों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाने के लिए सेना और अर्ध-सैनिक बलों की सहायता ली जा रही है। सेना और अर्ध-सैनिक बलों के जवान इस समय 300 गांवों में राहत कार्यो में जुटे हैं और अब तक सैंकड़ों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा चुके हैं। बर्मन ने बताया कि प्रशासन ने इन दोनों जिलों में बाढ़ प्रभावित लोगों के आश्रय के लिए कम से कम 50 अस्थायी शिविर लगाए हैं और उन्हें भोजन, पेयजल तथा दवाईयां मुहैया कराई जा रही हैं। दोनों जिलों में बाढ़ की वजह तटबंधों में करीब 15 दरारें पड़ना है। इससे पहले शुक्रवार को निकटवर्ती अरूणाचल प्रदेश में भूस्खलन की कई घटनाओं में 14 लोग मारे गए थे और 30 घायल हो गए थे। भूस्खलन की ये घटनाएं राजधानी इटानगर और उसके आसपास के क्षेत्रों में हुई। यहां मरने वालों की संख्या बढ़कर अब 1हो गई है। पामुमपेर के जिला मैजिस्ट्रेट विपुल पाएंग ने बताया कि राहत कार्य जारी है तथा और शवों की बरामदगी की आशंका झुठलाई नहीं जा सकती।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पूर्वोत्तर में बाढ़ से 25 मरे, लाखों बेघर