DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गांधी से गन्ना तक

आदरणीय अन्ना।  मैं कल्पना करना चाहता हूं, पर कर नहीं पा रहा हूं। यही कि गांधी किसी पार्टी का विज्ञापन कर रहे हैं। कैमरे के सामने टेक-रीटेक दे रहे हैं। आप गांधी के बाद लगभग गांधी बनने वाले शख्स तो बन ही गए थे। मीडिया, हमने, सबने आपमें गांधी देखा था। आपको भी लगा कि गांधी की तरह आश्रम में रहना चाहिए। आपने राजनीति से दूरी बनाए रखने के असंख्य बयान दिए। कहा कि राजनीति में नहीं जाएंगे। आपके आस-पास ऐसे लोग जमा हुए, जिन पर आपने यकीन किया कि ये भी राजनीति में नहीं जाएंगे। आप राजनीति की तरफ गए, अरविंद से दूरी बनाते रहे और छकाते रहे । गांधी की हैसियत से सर्टिफिकेट जारी करते रहे।.. अन्ना आपने गांधी को निराश किया है।

आपने जेपी को निराश किया है। उनलोगों को सही साबित किया है, जो आपके अनशन और भाषण के वक्त हंसा करते थे। आप किस प्रोजेक्ट के तहत तृणमूल के लिए प्रचार कर रहे हैं? आम आदमी पार्टी के आधार में कंफ्यूजन फैलाने का नया मंच है, या दिल्ली में प्रचार कर तृणमूल के लिए कुछ वोट बटोरने का प्रयास कर रहे हैं, ताकि उसे राष्ट्रीय पार्टी बनने के लिए पर्याप्त वोट मिल जाए या आप ममता के बहाने आप का वोट काट कर मोदी का भला कर रहे हैं? जैसे ‘आप’ पर आरोप लगता है कि यह बीजेपी को हराने का कांग्रेस का प्रोजेक्ट है, वैसे ही कहीं आप ‘आप’ को हराने के लिए बीजेपी का प्रोजेक्ट तो नहीं? वैसे अन्ना आप गांधी से गन्ना बन चुके हैं। सब चूस रहे हैं आपको।
कस्बा में रवीश कुमार

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गांधी से गन्ना तक