DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अफगानिस्तान के खिलाफ प्रतिष्ठा बचाने उतरेगा भारत

अफगानिस्तान के खिलाफ प्रतिष्ठा बचाने उतरेगा भारत

श्रीलंका और चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान से शिकस्त झेलने के बाद एशिया कप में खिताबी होड़ से बाहर हो चुकी टीम इंडिया बुधवार को जब अंतिम मैच में अफगानिस्तान से भिड़ेगी तो उसका लक्ष्य जीत के साथ टूर्नामेंट का समापन करना होगा।
       
पांच बार की चैंपियन टीम इंडिया को दो मैच हारने के बाद भी भाग्य के सहारे फाइनल में पहुंचने की उम्मीद थी लेकिन अफगानिस्तान की श्रीलंका के हाथों हार के साथ ही उसके खिताबी मुकाबले में पहुंचने के रास्ते बंद हो गए। श्रीलंका 13 और पाकिस्तान नौ अंकों के फाइनल में जगह बना चुके हैं।
       
ऐसे में भारत और अफगानिस्तान के बीच होने वाले इस मैच का परिणाम के लिहाज से कोई महत्व नहीं रह जाएगा। इनमें से अगर कोई टीम बोनस अंक के साथ जीत दर्ज करती है तो उसके पाकिस्तान के बराबर नौ अंक हो जाएंगे। चूंकि दोनों टीमें पाकिस्तान से हारी हैं इसलिए दोनों के फाइनल में पहुंचने के दरवाजे बंद हो चुके हैं।
       
महेन्द्र सिंह धौनी की अनुपस्थिति में टीम इंडिया की कप्तानी संभाल रहे विराट कोहली भले ही टीम के प्रदर्शन से संतुष्ट नजर आते हैं लेकिन टीम को खेल के हर क्षेत्र में सुधार की जरूरत है वर्ना अफगानिस्तान के हाथों भी उसे हार की शर्मिंदगी झेलनी पड़ सकती है। 

अफगानिस्तान ने पाकिस्तान के खिलाफ जीवट प्रदर्शन किया था जबकि मेजबान बंगलादेश को हराकर टूर्नामेंट और अपने करियर का सबसे बढ़ा उलटफेर किया था। श्रीलंका के खिलाफ भी अफगान टीम ने गेंदबाजी में अच्छा प्रदर्शन किया था लेकिन उसके बल्लेबाज नाकाम रहे थे।  

टीम इंडिया ने टूर्नामेंट के अपने पहले मैच में बंगलादेश को हराकर सत्र में अपनी हार के सिलसिले को तोड़ा था लेकिन टीम फिर इस प्रदर्शन को बरकरार नहीं रख पाई और उसने अगले दो मैच करीबी मुकाबले में गंवा दिए। श्रीलंका के भारत के गेंदबाज 264 रन के स्कोर का बचाव नहीं कर पाए जबकि पाकिस्तान के खिलाफ भी कमोबेश यही स्थिति रही।
       
अफगानिस्तान के कोच पहले ही ऐलान कर चुके हैं कि उनकी टीम किसी भी टीम पर भारी पड़ सकती है। बंगलादेश को इस बात का एहसास हो चुका है और अब भारत की बारी है। टीम इंडिया को टूर्नामेंट से सम्मानजनक विदाई के लिए अफगानिस्तान को हर हाल में हराना होगा।
       
शिखर धवन और रोहित शर्मा टीम को ठोस शुरुआत देने में नाकाम रही। शिखर ने जहां श्रीलंका के खिलाफ अच्छी पारी खेली थी वहीं रोहित ने पाकिस्तान के खिलाफ 56 रन बनाए थे। विराट पिछले मैच में पांच रन
पर निपट गए थे लेकिन टीम को हमेशा की तरह एक बार फिर बड़ी पारी की उम्मीद रहेगी।
       
मध्यक्रम में अजिंक्य रहाणे, अंबाटी रायुडू, दिनेश कार्तिक और रवीन्द्र जडेजा पर टीम के स्कोर को आगे ले जाने की जिम्मेदारी होगी। अफगान बल्लेबाजों खासकर असगर स्तेनिकजई और समीउल्ला शेनवारी को काबू में रखने के लिए स्पिनरों की भूमिका अहम हो सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अफगानिस्तान के खिलाफ प्रतिष्ठा बचाने उतरेगा भारत