DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आगरा में आलू और सरसों की फसल बर्बाद

बेमौसम बारिश और ओला-वृष्टि के कारण फसलों में हुए भारी नुकसान के चलते आगरा और आसपास के जिलों के किसान मुआवजे की मांग कर रहे हैं।

नम मौसम की वजह से कुछ इलाकों में 60 फीसदी से ज्यादा आलू की फसल बर्बाद हो गई है इसके साथ ही 20 से 30 फीसदी सरसों की फसल भी बर्बाद होने का अनुमान है।

बरौली अहीर के किसान रवि सिंह ने बताया कि खेतों में पानी भरा है और आलू की फसल सड़नी शुरू हो गई है। एतमादपुर, अचनेरा और अन्य ब्लाकों के किसानों ने त्वरित मुआवजे की मांग की है।

आगरा एक प्रमुख आलू उत्पादक जिला है। यहां लगभग 25 लाख क्विंटल आलू का वार्षिक उत्पादन होता है। आगरा-अलीगढ़ रोड पर स्थित खंदौली इलाके को इसके बेहरीन आलू उत्पादन के लिए जाना जाता है, जिसकी मांग आलू चिप्स बनाने वाली इकाइयां करती हैं।

बिचपुरी के किसान अतार सिंह ने बताया, ''फरवरी में आगरा क्षेत्र में 12 दिनों तक मौसम नम रहा और जनवरी में भी मौसम गीला रहा। खेतों में अभी भी पानी भरा है। कुछ इलाकों में ओलों ने पूरी फसल बर्बाद कर दी।''

बाह तहसील के किसानों ने कुछ बैठकें की और त्वरित राहत की मांग की। स्थानीय मंत्री अरिदमन सिंह को एक ज्ञापन भी सौंपा गया है। फतेहपुर सीकरी और किरौली इलाकों में भी भारी नुकसान हुआ है।

मौसम विभाग द्वारा एक हफ्ते और बारिश की संभावना जताए जाने से किसानों में और भय पैदा हो गया है। फरवरी में होने वाली औसत बारिश 11.5 मिलीमीटर होती है, जबकि आगरा में 50 मिलीमीटर बारिश हुई है। सूत्रों का कहना है कि किसान आने वाले दिनों में सड़कों और हाईवे पर चक्काजाम करने की योजना बना रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आगरा में आलू और सरसों की फसल बर्बाद